26 जनवरी हिंसा के आरोपी सिधाना ने अब पंजाब के युवाओं से की अपील

141
26 january

दिल्ली में 26 जनवरी को लाल किले में हुई हिंसा (Red fort violence) के आरोपी लक्खा सिधाना ने छिपकर शुक्रवार की रात एक वीडियो अपलोड किया। लक्खा सिधाना ने वायरल किए वीडियों (viral video) में किसानों के हक में किसान आंदोलन और पंजाबी भाषा पर बात की। दिल्ली पुलिस फरार आरोपी सिधाना पर एक लाख का इनाम घोषित कर चुकी है लेकिन वह अभी तक पुलिस के हाथ नहीं लगा है। सिधाना ने पंजाब के युवाओं से वीडियों के जरिए इस बात पर जोर दिया हैं, कि वह पंजाबी बोली को अपनाए।

इसे भी पढ़ें-धार्मिक किताबों की आड़ में छापी जा रही ऐसी किताबें, अब हुई कार्रवाई

रैली में बढ़ चढ़कर ले हिस्सा

फरार लक्खा सिधाना ने वायरल वीडियो में पंजाब किसानों से इस बात की अपील की कि वह किसान आंदोलन की बागडोर दोबारा से अपने हाथ में ले लें। इसके साथ ही 23 फरवरी को बठिंडा के गांव महराज में आयोजित रैली में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने की बात कही। पंजाब के किसानों की ओर से बनाई गई कई जत्थेबंदियों की ‘तैयार कमेटी’ 23 फरवरी को महराज में रैली करेगी।

अपनी मां बोली को अपनाओं

महराज पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का पैतृक गांव है। वीडियो में सिधाना ने इस बात का भी जिक्र किया कि हमें पंजाबी होने पर गर्व होना चाहिए। अपनी मां बोली को अपनाओ। सिधाना ने कहा कि इस समय न दीप सिद्धू अहम है, न लक्खा सिधाना अहम है। अहम है तो सिर्फ किसान आंदोलन।

दिल्ली हिंसा के आरोपी ने कहा कि हम पिछले साचत महीने से कड़ा संघर्ष कर रहे हैं लेकिन 26 जनवरी के बाद से किसान आंदोलन की बागडोर भी हमारें हाथ से निकल गया। उसको दोबारा अपने हाथ में लेना चाहिए।

उसने कहा कि कहा जा रहा है कि पंजाब का युवा निराश हो गया है, लेकिन ऐसा नहीं है। उसने किसान नेताओं से कहा कि यह समय आपस में न लड़ने का नहीं हैं। सिधाना ने कहा कि 21 फरवरी को मां बोली दिवस पर अपनी जुबान को बचाएं। हर भाषा को सीखें लेकिन अपनी बोली को न भूलें।

इसे भी पढ़ें-खुद को बड़ा हनुमान भक्त बताने में जुटी बीजेपी और आप, नेताओं ने शुरू किया चालीसा का पाठ