इस देश की महिला सैनिक High Heels में करेंगी सैन्य परेड, भेदभाव को लेकर सरकार पर बरसे लोग

0
55
high heels

सोवियत संघ के पतन के बाद आजादी मिलने के 30 साल पूरे होने की खुशी में यूक्रेन में 24 अगस्त को एक सैन्य परेड का आयोजन करने की तैयारी चल रही है लेकिन परेड कराने को लेकर यहां एक विवाद छिड़ गया है। यह विवाद की वजह रक्षा मंत्रालय के एक फैसले को लेकर है।

मिली जानकारी के अनुसार यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय द्वारा नेक्स्ट मंथ में होने वाली परेड में सेना के जूतों के बजाय महिला सैनिकों ने ऊंची हील वाली सैंडल्स में मार्च कराने का प्लान बनाया है। जिस पर लोग भेदभाव का आरोप लगाते हुए विवाद कर रहे हैं।

वर्दी का है हिस्सा

संसद के एक विपक्षी मेंबर इरीना गेराशचको ने कहां की यह महिलाओं के प्रति समानता नहीं बल्कि लैंगिक भेदभाव है। वही दूसरी तरफ ऊंची हील वाली सैंडल को लेकर रक्षा मंत्रालय का कहना है कि ऐसे जूते नियम पोशाक वर्दी का हिस्सा है।

यूक्रेन में कई लोगों ने रक्षा मंत्रालय की इस प्लानिंग पर हैरानी जताई है। सांसदों के एक ग्रुप ने रक्षा मंत्री एंड वितरण से ऐसी योजनाओं के लिए माफी मांगने के लिए कहा है।

सोशल मीडिया पर यूजर ने विटाली पोर्ट निकोव ने फेसबुक पर लिखा ‘हिल्स में परेड की कहानी एक वास्तविक अपमान है, “कुछ अधिकारियों की “मध्ययुगीन” मानसिकता है।

वहीं एक अन्य सोशल मीडिया यूजर्स गेराशचकों ने कहा कि उन्होंने शुरू में सोचा था कि महिला सैनिकों की लड़ाकू पतलून और ब्लॉक हील्स के साथ पहले से अभ्यास कराना महज एक घटना थी उन्होंने कहा कि यह समानता नहीं लैंगिकता है। मैं हैरान हूं कि मंत्रालय ने महिलाओं के अनुरूप शरीर के कवच को डिजाइन करने से ज्यादा महत्वपूर्ण इस चीज को क्यों समझा।

इसे भी पढ़े-शास्त्रों के अनुसार Tulsi के पत्ते तोड़ने से पहले जान ले सही तरीका, ऐसे तोड़े