वैक्सीन आने के बाद भी डॉक्टर क्यों कर रहे हैं देश में लॉकडाउन लगाने की मांग? डरावनी है वजह

254

अगर यह सिलसिला यूं ही जारी रहा तो अब वो दिन दूर नहीं जब फिर से लोगों की आमद से गुलजार दिखने वाली यह गलियां वीरान हो जाएंगी। अगर यह सिलसिला यूं ही  जारी रहा तो वो दिन दूर नहीं जब फिर से इंसान महज एक इंसान को देखने के लिए तरस जाएगा। अगर यह सिलसिला यूं ही जारी रहा, तो वो दिन दूर नहीं जब मुस्कुराहटों से खिलखिलाते ये चेहरे फिर खामोश हो जाएंंगे। इसी खौफनाक सिलसिले पर ब्रेक लगाने के लिए लॉकडाउन का सिलसिला शुरू होने जा रहा है। अब एक बार फिर से लोगों को कोरोना को मात देने के लिए बंदिशों में रहना होगा। अब एक बार फिर से लोगों को हिदायतों व  सख्तियों का पाठ पढ़ना होगा। ऐसा इसलिए…क्योंकि फ्रांस में लगातार कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है। पिछले कुछ दिनों से शांत रहने वाला कोरोना का कहर अब एक बार फिर से रोद्र रूप धारण करते जा रहा है। अगर समय रहते फ्रांस सरकार ने कड़े कदम उठाने की जहमत ने उठाई तो हालात बिगड़ सकते हैं।ये भी पढ़े :कोरोना वायरस ने बिगाड़ा समीकरण, बंदरों की फौज देखकर हर कोई हैरान, देखें वीडियो

…इसलिए..स्थिति न बिगड़े..इसके लिए अब एक बार फिर फ्रांस में न महज लॉकडाउन का सिलसिला शुरू हो सकता है बल्कि देश की सीमाओं को सील भी किया जा रहा है। लोगों के आवागमन पर रोक लगाने की कोशिश जारी है। ताकि कोरोना के कहर पर अंकुश लगाई जा सके। फ्रांस के प्रधानमंत्री जीन कास्टेक्स ने राष्ट्रपति पैलेस में राष्ट्रीय आपातकाल की बैठक के दौरान भी लोगों को संबोधित करते हुए कोरोना के कहर से आगाह किया है। साथ ही जरूरी सावधानी बरतने की भी अपील की है। ताकि स्थिति को बिगड़ने से रोका जा सके।

अभी कैसे हैं फ्रांस के हालात 
वहीं, अगर फ्रांस के हालात के बारे में बात करें, तो अभी वहां होटल, रेस्टोरेंट, कल कारखाने सभी बंद कर दिए गए हैं। उन सभी जगहों पर जहां लोगों का आवागमन अपने चरम पर रहता है। वहां सख्ती का सिलसिला शुरू हो चुका है। एक शहर से दूसरे जगह जाने वाले लोगों की भी स्वास्थ्य जांच की जा रही है।  विदेश यात्राओं को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है।

 लग सकता है लॉकडाउन 
अभी जिस तरह के हालात फ्रंस में बने हुए हैं। उसे देखते  हुए चिकित्सक फिर  से लॉकडाउन लगाने की मांग कर रहे हैं। ताकि गंभीर हो रही स्थिति को रोक लगाई जा सके। फ्रांस में अब तक 3,153,487 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। देश में अब तक 75,620 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, देश में एक बार फिर से लॉकडाउन की नौबत पैदा न हो जाए इसके लिए तमाम कोशिश की जा रही  है।  ये भी पढ़े :कोरोना वायरस वैक्सीन पर डब्ल्यूएचओ ने किया अलर्ट, पलक झपकते ही नहीं खत्म होगी महामारी