Saturday, October 16, 2021

सत्ता में लौटा तालिबान, अशरफ़ ग़नी युग का अफगानिस्तान में हुआ अंत

- Advertisement -
- Advertisement -

काबुल। अफगानिस्तान (Afghanistan) की सत्ता में तालिबान की वापसी हो चुकी है। तालिबान (Taliban) के लड़ाके राजधानी काबुल में घुस चुके हैं। न्यूज एजेंसी AP की रिपोर्ट के मुताबिक, 3 अफगानी अधिकारियों ने इसकी पुष्टि कर दी है। तालिबान ने राजधानी के सभी बॉर्डर अब सील कर दिए हैं और अपने कब्जे में ले लिए हैं। तालिबान सत्ता परिवर्तन की मांग कर रहा है, जिस पर अफगानिस्तान के कार्यवाहक गृह मंत्री अब्दुल सत्तार मिर्जकवाल ने मुहर भी लगा दी। उन्होंने कहा है कि तालिबान काबुल पर हमला नहीं करेगा। शांतिपूर्वक ढंग से सत्ता का परिवर्तन होगा। उन्होंने यह भी कहा है कि सिक्योरिटी फोर्स की जिम्मेदारी काबुल की सुरक्षा की है।

इसे भी पढ़ें : Independence Day: आतंकी बुरहान वानी के पिता ने फहराया तिरंगा, बेटे की मौत के बाद किया था सुरक्षाबलों के खिलाफ प्रदर्शन

तालिबान की तरफ से आए बयान में कहा गया है कि ‘ताकत के बल पर तालिबान काबुल पर कब्जा करना नहीं चाहता है। उन्होंने कहा है कि वो सिर्फ सत्ता परिवर्तन चाहते हैं। अगर हमे सत्ता आराम से मिल जाती है तो हम किसी भी तरह का जान और माल का नुकसान किसी को भी नहीं पहुंचाएंगे। फिलहाल काबुल में किसी भी तरह का संघर्ष नहीं हुआ है। काबुल के काराबाग, पगमान और कलाकान में तालिबान के लड़ाके पहुंच चुके हैं। तालिबान के काबुल की तरफ बढ़ते कदमों को देखते सरकार ने सभी सरकारी दफ्तर बंद करवाकर कर्मचारियों को जल्दी घर भी भेज दिया गया था।

काबुल में तालिबान के लड़ाकों के घुसने की खबर के बीच तालिबान ने एक बयान जारी कर दिया है, जिसमे उन्होंने कहा है कि ‘हमने अपने लड़ाकों को काबुल में न घुसने और सीमा पर इंतजार करने को कहा गया है। वे आम लोगों पर या सेना के खिलाफ कोई भी बदले की कार्रवाई में हमला नहीं करेंगे। हम इसका ‘वादा’ करते हैं। तालिबान ने कहा है कि हम उन सभी को ‘माफ’ कर रहे हैं। इसके साथ ही सबको धमकी भी दी है कि सब घर ही में रुके और कोई भी देश छोड़ने की कोशिश नहीं करेगा।

इसे भी पढ़ें : RSS प्रमुख ने चीन को लेकर दिया बड़ा बयान, बोले – चीन पर निर्भर रहे तो झुकना पड़ेगा

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -