पुलिस ने नाबालिग बच्ची का अपहरण कर जबरन कराया धर्मांतरण, फिर किया निकाह

78
NIKAH

पाकिस्तान, सिंध। पाकिस्तान में हिन्दुओं के साथ किस हद तक अत्याचार होता है यह किसी से छिपा नहीं है। यहां कब किसी हिन्दू लड़की का अपहरण कर लिया जाये और उसका धर्मांतरण कराकर किसी मुस्लिम से उसका निकाह करा दिया जाये कुछ भरोसा नहीं होता। यहां एक बार फिर एक हिन्दू लड़की के अपहरण और एक मुस्लिम से जबरन निकाह कराने की खबर आ रही है।

इसे भी पढ़ें:-दाउद को लेकर पाकिस्तान का बड़ा कबूलनामा, 27 साल बाद किया यह काम, फिर अपनी ही बात से मुकरा

खुफिया सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में एक पुलिसवाले ने ही एक नाबालिग हिन्दू लड़की को अगवा कर लिया। लड़की का नाम नीना कुमारी बताया जा रहा है, जबकि उसके पिता का नाम रमेश लाल है। रमेश लाल अपने परिवार के साथ यह के नौशहरों जिले में रहता है। नीना को अगवा करने वाले पुलिस कर्मी का नाम गुलाम मरूफ कादरी बताया जा रहा है। ऑल पाकिस्तान हिंदू पंचायत (APHP) के मुताबिक, गुलाम मरूफ कादरी ने पहले नाबालिग लड़की का अपहरण किया। फिर 11 फरवरी को एक दरगाह पर नीना से जबरन इस्लाम कबुलवाया और फिर इसके बाद उसने कराची ले जाकर उससे निकाह कर लिया कहा जा रहा है गुलाम मरूफ कादरी ने पहले नाबालिग लड़की का अपहरण किया।

पांच दिन से गायब थी नीना

इस्लाम कबूल करवाने के बाद उसका नाम नीना कुमारी से बदल कर मरिया कर दिया गया। नाम न जाहिर करने की शर्त पर यहां के हिन्दू नेता ने बताया कि नाबालिग नीना पांच दिन पहले स्कूल गयी थी लेकिन वह घर वापस नहीं आयी। परिवार वालों के काफी खोजबीन के दौरान उन्हें उसकी किडनैपिंग के बारे में पता चला। इस शादी मैरिज सर्टिफिकेट सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है, जिसमें पुलिस वाले की जन्मतिथि के साथ नीना की जन्म तिथि लिखी गयी है। मैरिज सर्टिफिकेट में उसे19 साल बताया गया है। जबकि नीना के परिवार का दावा है कि वह अभी नाबालिग है।

इसे भी पढ़ें:-पाकिस्तान में हर साल एक हजार से ज्यादा लड़कियों को जबरन कबूल कराया जाता है इस्लाम