अब भारत से मेंथा ऑयल हासिल करने में छूट जाएंगे चीन के पसीने, मोदी सरकार ने कड़े किए ये नियम

330
INDO CHINA

मुरादाबाद। जिस मेंथा ऑयल से तमाम हेल्थ और कॉस्मेटिक प्रोडक्ट बनाकर चीन दुनिया भर में अपना डंका बजाता था और अरबों कमाता था। वह मेंथा ऑयल उसे भारत से हासिल होता है, लेकिन अब भारत से मेंथा ऑयल हासिल करना चीन के लिए काफी मुश्किल भरा होगा। भारत-चीन सीमा विवाद के बाद भारत हर तरफ से चीन पर शिकंजा कस रहा है। इसी कड़ी में भारत ने चीन को बीमा पेमेंट के लिए ए वन श्रेणी से हटाकर ए टू श्रेणी में शिफ्ट कर दिया है।

इसे भी पढ़ें:-भारत-चीन सीमा विवाद खत्म, एलएसी पर पीछे हटी चीनी सेना, जानें कैसे बनी बात

बता दें कि केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय के अधीन संचालित ईसीजीसी ने भारत-चीन संबंधों में लंबे समय से चल रही तल्खी और अनिश्चितता से भरी राजनैतिक परिस्थितियों व कारोबार पर बढ़े जोखिम की वजह से यह कदम उठाया है। हालांकि केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय के इस फैसले से मुरादाबाद के वह निर्यातक परेशान हो सकते हैं जो चीन को मेंथा ऑयल निर्यात करते हैं, क्योंकि अब उन्हें चीन को माल भेजने पर इसके पेमेंट का सुरक्षा कवर प्राप्त करना महंगा पड़ेगा।

चुकाना पडेगा अधिक प्रीमियम

पेमेंट बीमा मामले में पहले चीन अमेरिका और कई अन्य यूरोपीय देशों की तरह ए वन श्रेणी में था लेकिन अब एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कार्पोरेशन ऑफ इंडिया (ईसीजीसी) ने चीन को अब ए वन से हटाकर ए टू श्रेणी में डाल दिया है। अब चीन को माल निर्यात करने वाले निर्यातकों को इसके पेमेंट इंश्योरेंस की पॉलिसी पहले की तुलना में डेढ़ गुना महंगी पड़ेगी।  जानकरी के मुताबिक मुरादाबाद मंडल से पचास से ज्यादा निर्यातक चीन को मेंथा निर्यात करते हैं लेकिन अब इन मेंथा निर्यातकों को चीन को इसका एक्सपोर्ट करने पर पेमेंट कवर के लिए अब अधिक प्रीमियम चुकाना पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें:-1962 भारत-चीन युद्ध : नेहरू ने जैसे ही कराई यहां तंत्र साधना, रणभूमि में उखड़ने लगे थे चीन के पैर