भारत के पक्ष में फ्रांस का बड़ा ऐलान, खौफ में आए चीन और पाकिस्तान 

29

मसला चाहे कुछ भी हो..लेकिन जब यह भारत, चीन और पाकिस्तान के मध्य विचरण करने लगते हैं, तो ये बेहद दिलचस्प मोड़ में आ जाते हैं, चूंकि इसके पीछे एक वजह है कि यह तीनों ही देश किसी न किसी मसले को लेकर हमेशा से सुर्खियो में रहे ही है और साथ ही लोगों का ध्यान अपनी ओर आकृृष्ट करते रहे हैं। अब इस बीच भारत के सदाहाबाहर मित्र  फ्रांस ने एक बार फिर से पूरी बेबाकी  के साथ भारत का पक्ष लिया है। फ्रांस के कूटनीतिक सलाहाकार  इमैनुएल बॉन ने गुरुवार को किए अपने ऐलान में कहा कि हमने हमेशा से कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत का पक्ष लिया है। हम हमेशा से भारत का साथ देते हुए आए हैं। भारत हमारा सदाबाहार मित्र है और यह हमारी ही कोशिश का नतीजा रहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन प्रक्रियागत खेल नहीं खेल पाया। ये भी पढ़े –फ्रांस के प्रोडक्ट्स का बॉयकॉट करने वाला पाकिस्तान अब मांग रहा है उसी से भीख

इस पूरे मसले को लेकर फ्रांस के कूटनीतिक विशेषज्ञ राजनयिक बॉन ने कहा कि चीन हमेशा से विश्व बिरादरी में अपनी दादागिरी दिखाते हुए नियमों को तोड़ता हुआ  आया है , लेकिन अब हमारा रूख स्पष्ट है कि चीन के इस रूख का सिलसिला ज्यादा लंबे समय तक नहीं चलेगा। इसी ध्येय के साथ हमने हिंद महासागर में अपनी नौसेना को तैनात किया हुआ है।  विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन की ओर से आयोजित कराए गए एक वेबिनार  को संबोधित करते हुए इमैनुअल बॉन ने कहा कि फ्रांस क्वाड देशों के समूह के भी करीब है, जिसमें भारत भी शामिल है, हम इसके करीब रहे हैं।  बॉन ने कहा कि हम नहीं चाहते है कि विश्व समुदाय में किसी प्रकार का विवाद व टकराव बढ़े। यह मसले का पटाक्षेप आसान से हो सके। इस दिशा में हमारी यह कोशिश जारी है। बॉन ने कहा कि विगत दिनों भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार से हमारी वार्ता हुई थी , जिसमें सैन्य गतिविधियों सहित अन्य सुरक्षा मोर्चे पर हमारी वार्ता हुई थी। विदित हो कि जिस तरह चीन हर  मसले पर पाकिस्तान का पक्ष लेकर अपनी अटूट मित्रता का परिचय देता हुआ आया है। ठीक … उसी प्रकार से फ्रांस भी भारत का साथ देकर अपनी अटूट मित्रता निभाता हुआ आया है। ये भी पढ़े-फ्रांस में हुए आतंकी हमले का समर्थन करना मुनव्वर राना को पड़ा भारी, एफआईआर दर्ज