Thursday, January 20, 2022

डॉक्‍टरों ने किया चमत्कार, इंसान में धड़काया सूअर का दिल

ऐसा मेडिकल इतिहास में यह पहली बार हुआ है और अब ये माना जा रहा है कि इससे अंगदान (Organ Donation) में निरंतर हो रही कमी से निपटने में सहायता मिलेगी.

- Advertisement -
- Advertisement -

अमेरिका में एक डॉक्टर (US Doctors) टीम ने बहुत ही अलग काम कर के दिखा दिया है. इस डॉक्टर की टीम ने एक 57 साल के शख्स में जेनेटिकली मॉडिफाइड सूअर का दिल (Genetically-Modified Pig Heart) लगा दिया है. ये मेडिकल इतिहास में पहली बार हुआ है और अह ऐसा माना जा रहा है कि इससे अंगदान (Organ Donation) की कमी से निपटने में भी काफी हद तक सहायता मिल सकती है. इस संबंध में यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड मेडिकल स्कूल ने एक बयान जारी किया है और कहा कि यह ऐतिहासिक ट्रांसप्लांट शुक्रवार को किया जाने वाला है.

मरीज को हैं कई सारी बीमारियां

डॉक्टरों का इस बारे में कहना है कि ट्रांसप्लांट (Transplant) के बाद मरीज पूरी तरेके से अब है. हालांकि, इस ट्रांसप्लांट के बाद भी मरीज की बीमारी का इलाज फिलहाल पूरी तरह से पक्का नहीं है, पर यह सर्जरी जानवरों से इंसानों में ट्रांसप्लांट कोई छोटी मोटी बात नहीं है. डेविड बेनेट नाम के एक मरीज में बहुत सारी गंभीर बीमारियों और खराब स्वास्थ्य के कारण इंसानों का दिल ट्रांसप्लांट नहीं किया जा सकता था. इसीलिए डॉक्टरों ने उन्हें जेनेटिकली मॉडिफाइड सूअर का दिल लगा दिया है

हर धड़कन पर रहेंगी डॉक्टरों की नजरें

अभी फिलहाल मरीज अपनी बीमारियों से रिकवर कर रहा है और डॉक्टर करीब से उन पर नजर बनाए हुए हैं कि सूअर का दिल उसके शरीर में किस तरीके से काम कर रहा है. मैरीलैंड के रहने वाले डेविड ने कहा कि, ‘मेरे पास दो ही विकल्प थे, या तो मरूं या फिर यह ट्रांसप्लांट करवाऊं. मैं जीना चाहता हूं, मैं जानता हूं कि यह अंधेरे में तीर चलाने जैसा है, लेकिन यह मेरी आखिरी पसंद है’. बीते महीनों ही डेविड ने हार्ट-लंग बाईपास मशीन के सहारे बिस्तर पर हैं और अब वो बहुत जल्द ही हॉस्पिटल से बाहर जाना चाहते हैं.

कब मिली थी मंजूरी

ज्ञात हो कि नए साल से ठीक पहले अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने पारंपरिक प्रत्यारोपण न हो पाने की अवस्था में एक आखिरी प्रयास के तौर पर इस इमरजेंसी ट्रांसप्लांट की मंजूरी दी थी. सर्जरी के माध्यम से सूअर का दिल प्रत्यारोपित करने वाले डॉक्टर बार्टले ग्रिफिथ ने कहा कि यह एक सफल सर्जरी थी और इससे हम अंगों की कमी के संकट को हल करने की ओर एक कदम सफलता की ओर बढ़ गये हैं.

Read More-राकेश टिकैत ने दी अगले आंदोलन की चेतावनी, कहा – हम करके दिखाएंगे ऐसा

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -