भारत और अमेरिकी लड़ाकू विमानों ने मिलकर दुश्मनों के ठिकानों को किया ध्वस्त, चीन के छूटे पसीने

539

नई दिल्ली। चीन की धड़कन इन दिनों काफी बढ़ी हुई है, पूर्वी लद्दाख में जहां भारतीय सेना ने चीन को मुंह तोड़ जवाब देकर पूरी दुनिया में शर्मिंदा कर दिया है। वहीं हिंद महासागर और अरब सागर में भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका मिलकर मालाबार युद्धअभ्यास कर रहे हैं, जिसका नाम मालाबार युद्धअभ्यास रखा गया है। भारतीय नेवी के मिग 29 और अमेरिकी नेवी के एफ-18 फाइटर प्लेन जमीनी सेना पर हमला करने का युद्धाभ्यास करते हुए शुक्रवार को सामने आए वीडियो में दिखाई दे रहे है। वीडियो में भारतीय विमान वाहक पोत INS विक्रमादित्य से फाइटर प्लेन उड़ान भरते और लैडिंग करते हुए दिख रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: आतंक के आका हाफिज सईद को कोर्ट ने सुनाई 10 साल की सजा, संपत्ति जब्त करने का भी दिया आदेश

सोशल मीडिया पर मालाबार युद्धाभ्यास से जुड़े वीडियो शेयर करते हुए इंडियन नेवी ने लिखा है कि, भारतीय नौसेना का मिग 29 और अमेरिकी F-18 इंडियन नेवी के मैरीटाइम पेट्रोल एयरक्राफ्ट P-8I और US नेवी के SEW एयरक्राफ्ट E2C से एक साथ उड़े।

अरब सागर में मालाबार नेवी युद्धअभ्यास का दूसरा चरण 17 नवंबर से शुरू हुआ। इसमें दो विमानवाहक पोत, पनडुब्बियां, अग्रिम पोत और समुद्री टोही विमानों को शामिल किया गया है।अमेरिकी नौसेना का निमित्ज स्ट्राइक ग्रुप और भारतीय नौसेना का विक्रमादित्य पोत युद्धक समूह इस चार दिवसीय युद्ध अभ्यास में शमिल हैं। गौरतलब है कि, बड़ा युद्धपोत यूएसएस निमित्ज है। जापानी नौसेना ने जहां अपने नौसेना जेएस मुरासमे को अभ्यास में भेजा है वहीं ऑस्ट्रेलियाई नौसेना ने अपने पोत एचएमएएस बैलरेट तैनात किया है।

3 से 6 नवंबर के बीच बंगाल की खाड़ी में मालाबार युद्धअभ्यास का पहला चरण हुआ था। इसमें हवाई युद्धक क्षमता, पनडुब्बी रोधी सहित कई कठिन अभ्यास हुए थे। चीन के साथ सीमा पर चल रहे तनाव के बीच भारत विश्व के चार शक्तिशाली देशों के साथ युद्ध अभ्यास कर रहा है, जिससे निश्चित तौर पर चीन की चिंता काफी बढ़ गई है। चीन को इस बात का डर भी सता रहा है कि, ये युद्ध अभ्यास हिंद और प्रशांत महासागर में उसके बढ़ते प्रभाव को कम करने की एक कोशिश है।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान सहित इन 12 देशों के यात्रियों को वीजा जारी करने पर UAE ने लगाई रोक