कर्ज से चाहते हैं मुक्ति तो अपनाएं ये अचूक उपाय

228
debt

हर व्यक्ति प्रतिदिन सुबह ईश्वर से यही प्रार्थना करता है कि हे भगवान हमारा दिन अच्छा रहे, अच्छी नौकरी मिले या फिर धनवान बना दें। इसके लिए कोशिश भी करता है। लेकिन अगर उसका इनमे से कोई कार्य नहीं बनता है तो वह निराश होकर अपने कार्य को पूरा करने के लिए कर्ज का सहारा ले लेता है। इसका कारण ये भी है की हर इंसान की अपनी अपनी जरूरतें भी रहती हैं जिनको पूरा करने के लिए उसे कर्ज लेना ही पड़ता है। मगर कर्ज़ एक ऐसा बोझ है जिसके नीचे इंसान दबता ही चला जाता है। अगर वो वक्त पर कर्ज नहीं चुका पाता है तो उसे फिर से कर्ज लेना पड़ता है। इसी प्रकार कई बार ऐसा होता है कि कर्ज की ये प्रक्रिया चलती ही रहती है। जिसके कारण व्यक्ति इसकी वजह से डिप्रेशन में भी चला जाता है।

इसे भी पढ़ें:- दिन के अनुसार माथे पर लगाएं तिलक, मिलेंगे कई फायदे

अगर कोई यक्ति कर्ज से परेशान है तो हम कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं जिससे वो कर्ज से निजात पा सकता है। जातक सोमवार को एक रूमाल, 5 गुलाब के फूल, 1 चांदी का पत्ता, थोड़े से चावल और थोड़ा सा गुड़ लें और किसी विष्णु-लक्ष्मी मंदिर की मूर्ति के सामने रखकर 21 बार गायत्री मंत्र का पाठ करे। इस प्रक्रिया को 7 सोमवार तक करें। इससे कर्जा संबंधी परेशानियां दूर होने लगती हैं। मंगलवार को शिव मन्दिर में शिवलिंग पर मसूर की दाल “ॐ ऋण मुक्तेश्वर महादेवाय नम:´´ मंत्र बोलते हुए चढ़ाएं। ऐसा करने पर कर्ज से मुक्ति मिल जाती है।

प्रतिदिन “ऋणमोचक मंगल स्तोत्र´´ का पाठ करने से भी कर्ज से निजात मिल जाता है। ध्यान रहे कि यह पाठ शुक्ल पक्ष के प्रथम मंगलवार से ही शुरू करे। अगर किसी कारणवस रोज न कर पाएं तो प्रत्येक मंगलवार को जरूर करे। ऐसे जातक 5 लाल गुलाब के पूरी तरह से खिले हुए फूल लें। डेढ़ मीटर सफेद कपड़े पर उसे बिछा लें। इन फूलों को 21 बार गायत्री मंत्र पढ़ते हुए बांध दें। उसके बाद बहते हुए जल में इसे प्रवाहित कर दें।

एक अहम उपाय यह है कि “गजेन्द्र-मोक्ष´´ स्तोत्र का रोजाना सूर्योदय से पहले पाठ करें। इसे कर्ज मुक्ति का अमोघ उपाय माना जाता है। यदि कोई जातक लगातार कर्ज के दलदल में फंसता जा रहा है तो उसे श्मशान स्थित किसी कुएं या हैंडपंप का जल लाकर किसी पीपल के पेड पर चढ़ा देना चाहिए। अगर इस उपाय को 6 शनिवार तक कर लिया तो निश्चितरूप से कर्ज से मुक्ति मिल जाती है।

इसे भी पढ़ें:- Chhath Puja 2020: जानिए क्यों मनाया जाता है छठ पर्व और क्या है इसकी पौराणिक कथा