आप भी गले में खराश, सांस की बदबू और छाले से हैं परेशान तो करें ये उपाय मिलेगा आराम

50
gurgling

मौसम के बदलने के साथ-साथ गले में खराश और खांसी की समस्या होती है, जो थोड़े इलाज करने के बाद ही सही हो जाती है। मगर मुंह से बदबू आना एक ऐसी समस्या है, जिसके चलते आपको लोगों के बीच बेज्जत होना पड़ सकता है। गले में खराश, सूखी खांसी, बलगम, मुंह की बदबू से लेकर मसूड़ों में सूजन की परेशानी से निपटने का बस एक तरीका है और वह है गरारे यानी गार्गल। यह मुंह और दांतों के बीच फंसे खाने को निकाल देता है, कैविटी पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म कर सकता है और तुरंत सांसों को ताजा कर करता है। गरारे करना मुंह की स्वच्छता का एक सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। myUpchar के अनुसार, गरारे करने से गले में मौजूद बैक्टीरिया द्वारा बनाया जाने वाला एसिड कम हो जाता है। संक्रमण में गरारे करने से संक्रमण की गंभीरता कम होती है और लक्षणों में आराम भी मिलता है। यूं तो गरारे के ढेरों लाभ हैं, मगर इसे अक्सर अनदेखा या गलत तरीके से किया जाता है। सही ढंग से गरारे न करने पर जो फायदा होना चाहिए वह नहीं होता है। इन बातों को फॉलो कर सही तरीके से इस प्रकार से गरारे करें…

इसे भी पढ़ें: कोरोना से करोड़पति परिवार के छठे सदस्य की मौत, अब शव लेने वाला कोई नहीं

गरारे करने के लिए हमेशा एक अलग गिलास रखें। पानी भरने के लिए कई लोग हमेशा हथेलियों का प्रयोग करते हैं मगर गिलास का प्रयोग करना अधिक सुविधाजनक है, खासकर अगर गरारे करने वाले मिश्रण या माउथवॉश से करना चाहते हैं।

ठंडा पानी दांतों की संवेदनशीलता की वजह बन सकता है और गर्म पानी मुंह में जलन भी पैदा कर सकता है। गुनगुना पानी सबसे अच्छा ओर सही काम करता है। इसमें नमक या अन्य सामग्री भी मिलाई जा सकती है।

अगर गले में खराश या मसूड़े में सूजन है, तो गरारे करने वाले मिश्रण की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए इसमें एक चम्मच शहद जरूर मिलाएं। यह प्रभावी रूप से मुंह के बैक्टीरिया के विकास को भी रोकता है।

नमक एक प्राकृतिक कीटाणुनाशक है। गर्म पानी में एक चम्मच नमक डाल सकते हैं और इससे गरारे कर सकते हैं। myUpchar के मुताबिक, नमक का पानी गले के ऊतक में मौजूद पानी को निकालता है और गले की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायता करता है।

बेकिंग सोडा खराब सांस और प्लाक बिल्ड-अप के लिए एक आजमाया हुआ उपाय है। गरारे करने से पहले गुनगुने पानी में एक छोटी चुटकी बेकिंग सोडा डालें और अब मिश्रण तैयार करके इसे धीरे-धीरे तब तक लें जब तक कि मुंह में पर्याप्त तरल न हो जाएं। अब अपने मुंह के एक तरफ से दूसरे हिस्से तक पानी को सावधानी से घुमाना शुरू करें। याद रहे कि इसे आगे और पीछे भी घुमाएं। अपने गाल की मांसपेशियों को अंदर और बाहर धकेलें और अपनी जीभ को अपने मुंह के हर कोने में घुमाएं जिससे हर जगह तरल चला जाए।

गले में खराश की स्थिति में अपना सिर थोड़ा टेढ़ा करें, जब तक कि तरल मुंह, टॉन्सिल और यूवुला (मुंह के पीछे की तरफ जीभ पर लटकते ऊतक का मांस का टुकड़ा) न छू जाए। अपना मुंह खोलें और एक तेज आवाज करें। कंपन ले कर पीछे पानी के बुलबुले बना देगा, दर्द को शांत करेगा और इसे तरल की एक पतली परत के साथ कोटिंग भी करेगा।

इसे भी पढ़ें: कोरोना का कहर: वायरस पर वार करेंगी ये 8 वैक्सीन, टीका बनाने में जुटी पूरी दुनिया