Friday, October 22, 2021

पीरियड्स के दौरान होने वाली इस समस्या को न करें अनदेखा, कैंसर के हो सकते हैं संकेत

- Advertisement -
- Advertisement -

शरीर से सबंधित किसी भी समस्या को कभी छोटा नहीं समझना चाहिए। कभी-कभी हम जिन लक्षणों को आम समझतेहै असल में वह गंभीर समस्या बन जाती है। इंग्लैंड में रहने वाली एक महिला की कहानी अन्य महिलाओं के लिए एक सबक है महिला ने अपनी सूझबूझ से खुद की जान बचा ली। मिली जानकारी के अनुसार 19 साल की कैथरीन हॉक्स को हैवी पीरियड्स की दिक्कत रहती थी।

डॉक्टर्स से ले परामर्श

आपको बता दे कि कैथरीन अपने माता-पिता के बिना दूसरे शहर में रहकर स्टडी कर रही थी। एक दिन कैथरीन खुद को बहुत थका हुआ महसूस कर रही थी और अचानक ही बेहोश हो गई।irregular periods: अनियमित Periods की समस्या से जूझ रही हैं 55 फीसदी से  ज्यादा लड़कियां - more than 55 percent girls are suffering from irregular  periods issue | Navbharat Times इस दिक्कत के बाद वह शर्म किनारे करके इस विषय में डॉक्टर से सलाह लेने का विचार किया। कैथरीन के इस फैसले ने उसकी जिंदगी बचा ली। डॉक्टर्स ने बताया कि वो ब्लड कैंसर से पीड़ित है एक वीक भी ज्यादा हो जाता तो उसकी जान की बन आती।

ज्यादा पीरियड्स का होना प्रोमायलोसाइटिक ल्यूकेमिया (APL) का लक्षण था, जो तेजी से ब्लड कैंसर में बदलता है। पहले तो कैथरीन के जनरल फिजिशियन ने नियमित जांच के लिए उसका ब्लड टेस्ट किया और कहा कि उसे क्या परेशानी है कुछ दिन में पता चल जाएगा। अगर लंबे समय से लेट या अनियमित हो रहे हैं पीरियड्स तो घर में करें उपाय -  home-remedies-for-irregular-periodsहालांकि फिर उसी दिन शाम में उसके पास फोन आया कि वो बहुत ज्यादा एनिमिक है और उसे तुरंत हॉस्पिटल जाने की जरूरत है।

यह सुनकर कैथरीन घबरागई और अपनी हाउसमेट्स के साथ पास के एक हॉस्पिटल में पहुंची। वहां के डॉक्टर्स ने उसे बताया कि उसे ल्यूकेमिया है और उसे तुरंत अपना इलाज शुरू कर देना चाहिए। APL तब होता है जब बोन मेरो (ब्लड सेल्स का स्त्रोत) बहुत ज्यादा अपरिपक्व सफेद रक्त कोशिकाएं बनाने लगती है। इसकी वजह से शरीर में अन्य स्वस्थ रक्त कोशिकाएं बनने के लिए पर्याप्त जगह नहीं मिल पाती है और शरीर में इनकी कमी हो जाती है।

शरीर में मौजूद लाल रक्त कोशिकाएं पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करती हैं और ऐसे में शरीर में इसकी कमी सांस लेने में तकलीफ और सुस्ती महसूस होती है. ये प्लेटलेट्स की कमी का भी संकेत देती हैं। डॉक्टर्स के अनुसार थकान और स्किन से जुड़ी दिक्कतों के साथ हैवी पीरियड भी APL का एक प्रमुख लक्षण है। नाक और मसूड़ों से खून आना और असामान्य रूप से पीरियड्स में अचानक बदलाव एक चेतावनी का संकेत हो सकता है।

इस पर डॉक्टर्स ने कहा है कि अगर किसी भी महिला को ज्यादा पीरियड्स की समस्या है तो उसे अनदेखा नहीं करना चाहिए। कैथरीन की तरह ही सभी को थोड़ी सी भी समस्या होने पर डॉक्टर्स से परामर्श लेना चाहिए। एक दिन अचानक उसने गौर किया उसके हाथ और पैरों में थक्के बन रहे हैं और स्किन का कलर भी बदलने लगा है। पीरियड्स के दौरान उसे बेहोशी आने लगती थी। शुरूआत में उसे लगा कि शायद उसके शरीर में खून की कमी है और तभी उसने डॉक्टर से मिलने का फैसला किया।

डॉक्टर ने पाया कि कैथरीन के शरीर में सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या 186 थी लेकिन किसी भी हेल्दी व्यक्ति के शरीर में 10 होनी चाहिए। Best home remedies for irregular periods naturally - India TV Hindi Newsइतनी ज्यादा मात्रा में सफेद रक्त कोशिकाएं देखने के बाद डॉक्टर्स ने ल्यूकेमिया की शंका जताई और कैथरीन को तुरंत हॉस्पिटल जाने की सलाह दी। डॉक्टर्स ने सबसे पहले कैथरीन की बोन मैरो बायोप्सी की। कैथरीन को तुरंत कैंसर स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया.

डॉक्टर्स ने तुरंत कैथरीन की कीमोथेरेपी शुरू कर दी। कैथरीन की तबीयत के बारे में पता चलते ही उसके माता-पिता भी हॉस्पिटल पहुंच चुके थे। इलाज के दौरान कैथरीन 8 दिनों तक कोमा में रही। जब उसे होश आया तो उसने देखा कि उसके लंबे-घने बाल तेजी से झड़ने शुरू हो गए थे। वह बहुत कमजोर हो गई थी। खुद को पहचानना मुश्किल हो रहा था लेकिन इन सबके बीच वह हार नहीं मानी। कैथरीन नियमित रूप से अपनी कीमोथेरेपी कराती रही.

5 महीने तक ट्रीटमेंट कराने के बाद डॉक्टर्स ने कैथरीन को बताया कि उनका इलाज सफल रहा है उसे दोबारा कैंसर होने की संभावना बहुत कम है। हालांकि उसे हर तीन महीने पर चेकअप कराने के लिए आते रहना होगा। कैथरीन अब 22 साल की हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें-अपने क्रश को लेकर Actress Jacqueline ने किया खुलासा, ब्लाइंड डेट को लेकर कहा…

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -