Corona Study: अब नाखून से भी पता कर सकते है कोरोना संक्रमण है या नहीं

0
169
corona

दुनिया भर में फैली महामारी को लेकर बहुत से वैज्ञानिकों ने अलग-अलग अध्ययन किया। कोरोना के लक्षणों की सूची की शुरुआत सर्दी जुकाम से शुरू हुई थी फिर से दर्द और डायरिया जैसे लक्षण भी इनमें शामिल हो गए। थोड़े समय बाद ही कोरोना के लक्षणों में गंध और स्वाद का चले जाना यह भी शामिल हो गया। बहुत से लोगों में शिकायत थी कि बालों के झड़ने से लेकर जीभ और नाखून के जरिए भी कोरोना की पुष्टि हो रही है। हाल ही में शोध में एक्सपर्ट ने उन लक्षणों का संकेत दिया जो कोरोनावायरस होने के बाद नाखूनों में नजर आते हैं।

कोरोनावायरस से हम कितना सेफ हैं। इस बात का पता हमें हमारे नाखूनों से भी पता चल सकता है। यूके के जॉय कोविड स्टडी सेंटर के मुख्य शोधकर्ता टीम स्पेक्टर ने कोविड नेल्स की पहचान की है। हालांकि ऐसा पहली बार हुआ है जब कोविड नेल्स जैसे अजीब लक्षण के बारे में पता चला है। आज हम आपको बताएंगे कि किस तरह आप इसकी पहचान कर सकते हैं।

नाखूनों में दिखाई देती है ब्लू लाइंस

ऐसे सिम्टम्स बहुत ही कम मरीजों में देखने को मिलते हैं। ब्लूज लाइंस या नाखूनों में बनने वाले खांचे जिन्हें कोरोना से जोड़कर देखा जा रहा है। यह लक्षण आपको हाथ की किसी भी उंगली में खासकर अंगूठे में दिखाई देते हैं। नाखूनों की लंबाई रुक जाती है और यदि आप नाखून पर अपना हाथ फिरेंगे तो उसके टेक्चर से आप कुछ बदलाव महसूस करेंगे। हालांकि अभी तक इस विषय पर गहराई से शोध की जरूरत है। दुनिया के कुछ स्किन रोग विशेषज्ञों का कहना है कि जिन लोगों को क्यों हाथ पैरों की बीमारी थी। उनके नाखूनों में यह गड़बड़ी पाई गई है।

बीते कुछ समय में किस टीम से संबंधित एक और बात सामने आई है। वैज्ञानिकों ने इसे रेड हॉप मून साइन का नाम दिया है। इसमें आप देख सकते हैं कि नाखूनों के शुरुआत में आपको लाल रंग का एक बहन के आकार की रचना दिखाई देगी। हालांकि अभी तक यह पता नहीं लगाया जा सका है कि किस कारण से यह सिम्टम्स दिखाई देता है। वहीं एक वैज्ञानिक का मानना है कि यह शारीरिक कमजोरी का लक्षण हो सकता है।

हालांकि ऐसे लक्षण बहुत चिंता का विषय नहीं है। हमारी उंगलियों के नाखून 6 महीने के अंदर पूरी तरह से वापस आ जाते हैं। जबकि अंगूठे के नाखून के वापस आने में 12 से 18 महीने का समय लग जाता है।

इसे भी पढ़ें-वैक्सीन को लेकर अखिलेश यादव के बदले सुर, बोले- भाजपा वैक्सीन के खिलाफ थे भारत सरकार के नहीं