जल्द ही बदल दें अपना पुराना तकिया नहीं तो हो सकती है यह भयंकर बीमारी

50
NECK PAIN

नई दिल्ली। अगर रात भर अच्छी नींद लेने के बावजूद आप सुबह खुद को फ्रेश नहीं महसूस कर रहे हैं और गर्दन में दर्द का एहसास हो रहा है तो आपको एक बार अपने तकिये पर ध्यान देने की आवश्यकता है। कई बार ऐसा होता है कि खराब तकिया की वजह से भी हमें आराम नहीं मिल पाता ,लेकिन हम इससे अनजान बने रहते हैं और यह मान लेते हैं कि किसी बीमारी या फिर काम के प्रेशर की वजह से गर्दन में अकड़न या दर्द होने लगी है। आज आइये आपको बताते हैं कि हमें किस तरह के तकिये का इस्तेमाल करना चाहिए और कब हमें अपना तकिया बदल देना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:-ठंड में जोड़ों के दर्द से बचने के लिए आपकों रखनीे होगी सावधानी

आजकल घर को सजाने के लिए कई रंगों और डिजाइन के तकिये का इस्तेमाल किया जाता है, जो देखंने में तो खूबसूरत होती हैं,लेकिन तकिये का मेन काम गर्दन और शरीर को सपोर्ट देना होता है। हमें हमेशा ऐसे तकिये का इस्तेमाल करना चाहिए जो गर्दन को सपोर्ट देने के साथ शरीर के पॉश्चर को सही बनाये रखे। खराब गुणवत्ता वाले या बहुत पुराना तकिये के प्रयोग से व्यक्ति की मांसपेशियों में अकड़न पैदा हो जाती है और दर्द कि शिकायत होने लगती है। ऐसे में यह जान लेना आवश्यक हो जाता है कि आपका तकिया कैसा है, कहीं वह एक्सपायर तो नहीं हो गया।

इस तरह से पता करें तकिया एक्सपायर है या नहीं

  • अगर आपके तकिए में गांठें पड़ गई हों या उसके अंदर की रूई या फॉम सिमट कर एक हो जाता हो, तो समझ जाइये की आपका तकिया एक्सपायर हो गया है और अब इसे बदल देना चाहिए।
  • अगर आपके तकिये को इस्तेमाल करने से पहले शेप देने की जरूरत पड़ने लगे तो समझ लीजिये आपका तकिया खराब हो चुका है और अब इसे बदल देना चाहिए।
  • हर दो साल में तकिया बदल देना चाहिए क्योंकि तकिये औसतन उम्र 18 से 24 महीने होती है।
  • आप तकिये कोई गुणवत्ता और एक्सपायरी इस तरह से भी पता कर सकते हैं। आप अपने तकिए को बीच से मोड़े और 30 सेकेंड्स तक दबाकर छोड़ दें। अगर तकिया दोबारा अपनी शेप में वापस नहीं आता तो समझ लीजिए कि अब तकिये को बदलने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ें:-इस योगासन को करने से दिल की बीमारियां रहेंगी आप से कोसों दूर