वित्त मंत्री सीतारमण ने की आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना की घोषणा, जानें जरूरी बातें

84

नई दिल्ली। रोजगार के नए अवसर पैदा करने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ने आज एक नई स्कीम आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना की घोषणा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी से उत्पन्न हुई आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए किए गए प्रयासों से अर्थव्यवस्था को सुधारने की दिश में रोजगार के नए अवसर पैदा करने के लिए नई स्कीम लांच की जा रही है। दो वर्षों के लिए लाई जा रही यह स्कीम एक अक्टूबर 2020 से प्रभावी हो गई है। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत उन कंपनियों को जोड़ा जाएगा, जिनमें काम करने वालों की संख्या एक हजार या उससे कम हो। एक अनुमान के मुताबिक औपचारिक यानी फॉर्मल सेक्टर की करीब 65 फीसदी कंपनियां इस स्कीम के तहत शामिल की जाएंगी। वित्त मंत्री ने प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा करते हुए कहा कि अर्थव्यवस्था में मजबूत सुधार देखा जा रहा है। देश में कोरोना वायरस के सक्रिय मामले 10 लाख से घटकर 4.89 लाख पर आ गए हैं। साथ ही इस महामारी से मृत्य दर में भी कमी आई अब यह घटकर 1.47 प्रतिशत हो गई है।

उन्होंने कहा कि आरबीआई ने अपनी रिपोर्ट में तीसरी तिमाही में सकारात्मक ग्रोथ होने की भविष्यवाणी की है। पहले अनुमान लगाया जाता था कि यह ग्रोथ चौथी तिमाही तक संभव होगी। वहीं देश के बैंकों की क्रेडिट ग्रोथ में भी बढ़ोत्तरी दिख रही है और बैंक ऋण में 5.1 फीसदी का सुधार आया है। निर्मला सीतारमण ने कहा, देश की अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधर रही है। जीएसटी के कलेक्शन में दस फीसदी बढ़ोत्तरी आई है। उन्होंने कहा कि इस समय निवेश में भी बढ़ोत्तरी देखी जा रही है।

वित्त मंत्री ने कहा कि ‘एक देश-एक राशन कार्ड’ अब 28 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू हो चुका है। ‘एक देश एक राशन कार्ड’ को लागू करने के लिए सरकार ने पहले ही राज्यो से कहा था। उन्होंने कहा, आत्मनिर्भर भारत के तहत सरकार ने सुनिश्चित किया था कि देश में धन और अन्न की कोई कमी न रहने पाए।