उत्तराखंड में ग्लेशियर फटने से मची भीषण तबाही, सैलाब में बहे 50 लोग

231

देहरादून। उत्तराखंड के चमोली में रेणी गांव के पास ग्लेशियर फटने से भारी नुकसान होने की आशंका है। घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर प्रशासन की टीमें रवाना हो चुकी हैं। अब तक सामने आई रिपोर्ट्स के अनुसार, गांव वालों के घर को बुरी तरह से नुकसान पहुंचा है। धोली नदी के साथ ही ग्लेशियर बह रहा है। इसमें 50 लोगों के बहने की भी आशंका जताई गई है। राहत और बचाव कार्य में आईटीबीपी के 200 से ज्यादा जुट चुके हैं। मौके पर एसडीआरजी की दस टीमें पहुंच चुकी है। श्रीनगर, ऋषिकेष और हरिद्वार में अलर्ट जारी कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: पंजाब-हरियाणा में शूटिंग करने नहीं दे रहे हैं किसान, रोकी गई फिल्म ‘लव हॉस्टल’ की शूटिंग

ग्लेशियर चमोली जिले के रैणी गांव के ऊपर फूटा है, जिसकी वजह से पावर प्रोजेक्ट ऋषि गंगा को भारी काफी बड़ा नुकसान पहुंचा है। इसके साथ ही तपोवन में बैराज को भी भारी नुकसान पहुंचने की खबर है। मौके पर जाने के लिए प्रशासन की टीम निकल चुकी हैं। तो वहीं अब तक घटना स्थल के मौजूदा हालात के बारे में कुछ भी साफ़ नहीं है कि, इस हादसे से कितना नुकसान हुआ है।

ये घटना रविवार सुबह करीब 8 से 9 बजे के बीच ही है और अब तक सामने आ रही है जानकारी के अनुसार, इस घटना में बड़ी संख्या में जान माल का नुकसान होने की आशंका जाहिर की जा रही है। जिन जिलों से भी ये ग्लेशियर होकर गुजरेगा, वहां की प्रशासन की टीम अलर्ट हो चुकी हैं। ये ग्लेशियर चमेली से होते हुए पहले ऋषिकेश पहुंचेगा फिर जोशीमठ और श्रीनगर।

उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सभी विभागों से स्थिति से निपटने के लिए निर्देश दिया गया है। इसके साथ ही उन्होंने किसी तरह की अफवाहों पर ध्यान न देने की भी अपील की है। सीएम रावत ने हेल्प लाइन नंबर 1070 या 9557444486 जारी किये हैं। उत्तराखंड की स्थिति पर गृह मंत्रालय ने भी नजर रखी हुई है।

इसे भी पढ़ें: ट्रैक्टर परेड में रूट बदलने वाले दो किसान संगठनों को किया गया निलंबित, टिकैत के फैसले से खुश नहीं मोर्चा