पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुई पुष्टि, जहर से हुई दोनों युवतियों की मौत, गांव वाले धरने पर बैठे

169

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले दो युवतियों की मौत के बाद राज्य में सियासी तूफान आ चुका है। दोनों ही युवतियां रिश्तेदार थीं और बुआ-भतीजी थीं। जबकि तीसरी युवती (चचेरी बहन) की हालत बेहद गंभीर बनी हुई है, जिसे बेहतर इलाज के लिए कानपुर के रिजेंसी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। विपक्ष द्वारा योगी सरकार से मांग की जा रही है कि, युवती के बेहतर इलाज के लिए उसे कानपुर से दिल्ली एयरलिफ्ट किया जाए।

इसे भी पढ़ें: दो युवतियों की मौत के बाद गांव में दहशत, एक की हालत गंभीर, मचा सियासी धमासान

घटना बबुरहा गांव की है, जिसे छावनी में बदल दिया गया है। गांव में भारी पुलिस बल तैनात है और कुछ-कुछ दूरी पर बैरियर लगा दिए हैं। मृतकों के परिवार अब मीडिया भी नहीं मिल पा रही है। वहीं खबर आ रही है कि, पुलिस द्वारा परिजनों को उठाने के बाद गांव वाले भी धरने पर बैठ गए हैं।

जहरीला पदार्थ मिलने की पुष्टि
दोनों युवतियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आ चुकी है, जिसमे दोनों के शरीर में जहरीला पदार्थ मिलने की पुष्टि हुई है। डॉक्टर्स की टीम ने इस पदार्थ लैब जांच के लिए भेज दिया है।

मामला लगातार सियासी रंग लेता जा रहा है, जिसे देखते हुए भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है। सीओ बांगरमऊ और हसनगंज मौके पर मौजूद हैं। 18 दरोगा, 70 हेड कॉन्स्टेबल, 30 अतिरिक्त आरक्षी तैनात हैं। शव को दफनाने के लिए जेसीबी मंगवाई गई थी, जिसे समाजवादी पार्टी के नेताओ और गांव वालों ने रोककर नारेबाजी शुरू कर दी है।

वहीं इस बात की भी खबर है कि, सपा सुप्रीमों अखिलेश यादव भी गांव जा सकते हैं। इस वक़्त पर गांव में विधायक अनिल सिंह और एडीएम, एसडीएम भी पहुंच चुके हैं। उन्नाव मामले को लेकर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने ट्वीट कर कहा है कि, इलाज के लिए उन्नाव की तीसरी बेटी को तुरंत दिल्ली शिफ्ट किया जाए। बच्ची को हर हाल में बचाना है।

इसे भी पढ़ें: केरल में भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं मेट्रो मैन, इस तारीख को होंगे पार्टी में शामिल