दो युवतियों की मौत के बाद गांव में दहशत, एक की हालत गंभीर, मचा सियासी धमासान

119

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव में दो युवतियों के शव मिले हैं, वहीं एक युवती गंभीर रूप से घायल है। तीनों युवतियां एक ही परिवार की हैं। परिवार का कहना है कि, जब तीनों युवतियां मिलीं तो उनके गले कसे हुए और हाथ बंधे हुए थे। वहीं पुलिस इस बात को नकार रही है। युवतियों के जहर खाने या फिर उन्हें खिलाने तक ही पुलिस की जांच सीमित हैं। पुलिस को इस बात भी आशंका है कि, ये ऑनर किलिंग से भी जुड़ा मामला हो सकता है। घटना को लेकर उन्नाव एसपी आनंद कुलकर्णी का कहना है कि, मामले के खुलासे के लिए उन्होंने पुलिस की 6 टीमों का गठन किया है।

इसे भी पढ़ें: किसान ने कारोबार बढ़ाने के लिए खरीदा 30 करोड़ का हेलिकॉप्टर, कहा- होती थी परेशानी

वहीं सर्विलांस और स्वाट की टीमें भी जांच में जुटी हुई हैं। युवतियों की अब तक पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आई है, उसके आने के बाद ही पुलिस बड़ा खुलासा कर सकती है। इसके आलावा पुलिस की जांच गंभीर रूप से घायल युवती के बयान पर भी केंद्रित रहेगी। उन्नाव जिले के बबुरहा गांव में हुई घटना के बाद देर रात पहुंची आईजी लक्ष्मी सिंह ने घटनास्थल का मुआयना किया।

आईजी ने मृतक कोमल और काजल के परिवार वालों से बात भी की। काजल के पिता सूरजपाल ने एक युवक का नाम लेते हुए कहा है कि, तुम्हे ऐसा नहीं करना चाहिए था। लक्ष्मी सिंह ने जैसे काजल के पिता से ये बात सुनी तो वो उन्हें किनारे ले जाकर बात करने लगीं। तीनों युवतियां बुआ-भतीजी और चचेरी बहन हैं। मृतका कोमल घर की सबसे बड़ी लड़की थी।

बेटी की मौत पर मां गोमती, छोटी बहन मोनिका और भाई विशाल का रो-रोकर बुरा हाल है। सीओ रमेश चंद्र प्रलयंकर से जब आईजी लक्ष्मी सिंह ने घटना की पूरी जानकारी लेनी लगीं तो ऐसे काफी सवाल थे, जिसके जवाब सीओ के पास नहीं थे। इसके बाद आईजी नाराज हो गयीं।

इसे भी पढ़ें: सपने को चट कर गई दीमक, लापरवाही की वजह से कारोबारी ने गंवाई जीवन भर की कमाई