कासगंज: शराब माफियाओं ने छापा मारने गई पुलिस टीम पर किया हमला, सिपाही की हत्या, आरोपी ढेर

168

लखनऊ। यूपी के कासगंज जिले में बेखौफ शराब माफिया ने पुलिस टीम पर हमला कर एक सिपाही हत्या कर दी है। घटना के बाद पुलिस ने मुठभेड़ में शराब माफिया को ढेर कर दिया है। वहीं एक आरोपी फरार बताया जा रहा है। रिपोर्ट्स के अनुसार, बुधवार सुबह काली नदी के कटरी क्षेत्र में ये मुठभेड़ हुई है। सिपाही देवेंद्र जसावत की हत्या का मुख्य आरोपी मोती फरार चल रहा है, जिस पर 11 मामले दर्ज है। जबकि दूसरा आरोपी ऐलकार गांव धीमर का निवासी है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा लाल किले पर हुई हिंसा का मुख्य आरोपी दीप सिद्धू

पुलिस के अनुसार, मंगलवार शाम उन्हें सूत्रों से जानकारी मिली थी कि, अवैध शराब का काम थाना सिढ़पुरा क्षेत्र के गांव नगला धीमर और नगला भिकारी में चल रहा था। इसके बाद जब दरोगा अशोक कुमार सिंह और सिपाही देवेंद्र जसावत मौके पर पहुंचे तो शराब माफियाओं ने उन्हें घेर लिया और उनकी पिटाई शुरू कर दी। आरोपियों ने पुलिस वालों की वर्दी उतरवा दी। इसके बाद उन्हें बेहरहमी से लाठी-डंडों सहित दूसरे हथियारों से पीटा गया।

बुरी तरह से घायल दरोगा और सिपाही को अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज भर्ती कराया गया है। जहां दरोगा की हालत गंभीर है, वहीं सिपाही की मौत हो चुकी है। कासगंज में हुई घटना ने बिकरू गांव (कानपुर) कांड की याद दिला दी है। जहां विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ मिलकर दबिश देने आई पुलिस टीम पर हमला कर दिया था, जिसमे 8 पुलिसकर्मियों हत्या कर दी गई थी।

सीएम योगी ने कासगंज में हुई घटना का भी संज्ञान लेते हुए अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया है। शराब माफिया पर एडीजी अजय आनंद नेतृत्व में कार्रवाई शुरू हो चुकी है। घटना से जुड़े सभी आरोपियों पर NSA लगाने का आदेश सीएम ने दिया है। वहीं सिपाही के परिजनों को 50 लाख रुपए की आर्थिक मदद और आश्रित को सरकारी नौकरी देने का भी एलान किया है।

इसे भी पढ़ें: जमीनी मामलों की धोखाधड़ी पर योगी सरकार ने लगाया ब्रेक, राजस्व विभाग ने कसी कमर