आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद संसद में अमित शाह ने गिनाए राज्य में हुए विकास कार्य, विपक्ष से पूछे तीखे सवाल

56

नई दिल्ली। लोकसभा में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। सदन में आज जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन संशोधन विधेयक भी सरकार ने पास किया। अब तक विपक्ष द्वारा आर्टिकल 370 को हटाए जाने के बाद प्रदेश हालत पर सवाल उठा रहा था। सरकार से विपक्ष बार-बार सवाल कर रहा था कि, आखिर केंद्र सरकार को क्या मिला धारा 370 हटाए जाने के बाद, स्थानीय लोगों को कौन सी सहूलियतें मिलने लगी है। अमित शाह ने विपक्ष द्वारा जो सवाल अब तक उठाए जा रहे थे उन सभी का विस्तार से जवाब देते हुए कहा कि, राज्य में जितना काम पूर्व की सरकारों की चार पीढ़ियों ने मिलकर किया था।

इसे भी पढ़ें: शाहीन बाग में प्रदर्शन करने वाली महिलाओं की याचिका खारिज, SC ने कहा- कहीं भी और कभी भी प्रदर्शन करने का अधिकार…

उतना ही काम हमे पिछले 17 माह में करके दिखाया है। उन्होंने कहा कि, राज्य में अब परंपराए बदल रही है। पहले जहां राज्य में तीन परिवार राज करते थे। वहीं अब प्रदेश में आम जनता शासन करेगी। गृह मंत्री ने विपक्ष से इस दौरान सवाल भी किया कि, किसके दबाव में आर्टिकल 370 को खत्म नहीं किया जा रहा था। देश में दो निशान, दो विधान और दो प्रधान नहीं रहेंगे। ये हमारा 1950 से वादा था। इसे हमने पीएम मोदी की सरकार आने के बाद पूरा भी किया।

अमित शाह ने कहा कि, हमसे पिछले 17 महीनों का हिसाब मांगा जा रहा है लेकिन, पहले वो बताएं कि, उन्होने पिछले 70 वर्षों में किया क्या है? अमित शाह ने केंद्र सरकार के काम गिनाते हुए कहा है कि, राज्य में पिछले 17 माह में हेल्थ सेक्टर में कई काम हुए, प्रत्येक किसान को उनके खाते 6 हजार रुपए मिल रहे हैं।

पनबिजली परियोजनाओं में 3,490 मेगावाट का काम हुआ है, जिससे 3 लाख 57 हजार परिवारों को बिजली दी गई। डीबीटी के जरिए 8 लाख छात्रों को स्कॉलरशिप दी जा रही है। आज राज्य में बच्चों के हाथों में हथियार की जगह बैट है। इसके साथ ही वर्ष 2022 तक कश्मीर में रेल सेवा शुरू हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें: पूर्व बाहुबली सांसद अतीक अहमद के बेटे की बढ़ीं मुश्किलें, कोर्ट ने जारी किया वारंट