राहुल गांधी को मार्च निकालने की नहीं मिली इज़ाज़त, कांग्रेस कार्यलय के आस-पास धारा 144 लागू

20

नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों के विरोध में राहुल गांधी को मार्च निकालने की इजाजत नहीं मिली है। वहीं सुरक्षा के लिहाज़ से कांग्रेस कार्यालय के आस-पास धारा 144 लगा दी गई है। बता दें कि राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि भारत के किसान ऐसी त्रासदी से बचने के लिए कृषि-विरोधी क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन कर रहे हैं। किसानों के इस सत्याग्रह में हम सबको देश के अन्नदाता का साथ देना चाहिए। इसी क्रम में राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस का एक प्रतिनिधिंडल आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर कृषि कानूनों के विरोध में दो करोड़ किसानों के हस्ताक्षरों वाला ज्ञापन सौंपेगा। इसके लिए कांग्रेस के नेता पार्टी कार्यालय पर इकट्ठा हो रहे हैं। जबकि संयुक्त किसान मोर्चा ने एक दिन पहले ही बुधवार को एक बार फिर स्पष्ट कर दिया है कि नए कृषि कानूनों में संशोधन के प्रस्ताव हमें मंजूर नहीं है। किसानों कि मांग है कि तीनों कृषि कानूनों को निरस्त किया जाए।

इसे भी पढ़ें: अनुसूचित जाति के छात्रों को मोदी सरकार का तोहफा, चार करोड़ से ज्यादा छात्र होंगे लाभांवित

वहीं भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि सरकार किसानों से अब भी बातचीत कर रही है औऱ हल निकलने तक आगे भी करती रहेगी। साथ ही उन्होंने सतर्क करते हुए कहा है कि किसानों के बीच घुसकर कुछ लोग अपना एजेंडा चलाने की कोशिश कर रहे हैं। प्रदर्शन कि जो तस्वीरें आ रही हैं उससे इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि किसानोंके बीच कुछ लोग ऐसे हैं जो आंदोलन के नाम पर देश में आग लगाने कि फ़िराक़ में हैं। बताते चलें कि सरकार और किसान संगठनों के बीच कई दौर कि वार्ता हो चुकी है। लेकिन इसका कोई सार्थक परिणाम नहीं निकल पाया है। वहीं प्रदर्शनकारी किसान लगातार आंदोलन को तेज करने की चेतावनी दे रहे हैं।

आंदोलन कर रहे किसान किसी भी तरह का संशोधन की बात पर तैयार नहीं हैं। भारतीय किसान यूनियन के नेता बिंदर सिंह गोलेवाला ने कहा कि सरकार जब तक काले कानून रद्द नहीं करती है तब तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा। सरकार को जल्द से जल्द इस कानून रद्द कर देना चाहिए वरना संघर्ष और तेज किया जायेगा। हमें यहां के किसान साथियों के साथ दुनिया का भी सहयोग मिल रहा है। ज्ञात हो कि किसान आंदोलन का आज 29वां दिन है। किसान संगठनों ने नए कृषि कानूनों पर केन्द्र सरकार की तरफ से दिए गए संशोधन के प्रस्ताव को बुधवार को ही खारिज कर दिया।

इसे भी पढ़ें: नहीं बाज आ रहा पाकिस्तान..फिर उठाया ऐसा नापाक कदम, जानें पूरा माजरा