आढ़तियों के ठिकानों पर आयकर विभाग के छापे, अमरिंदर सिंह ने कहा- किसान आंदोलन को दबाने की कोशिश

167

नई दिल्ली। पंजाब में आयकर विभाग ने दस से अधिक आढ़तियों के ठिकानों पर छापेमारी की है। इस छापेमारी के बाद राज्य की सियासत गर्म हो गई है, सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस छापेमारी की आलोचना करते हुए कहा है कि, ये केंद्र सरकार की एक चाल है उन आढ़तियों को डराने-धमकाने की जो किसानों के हिमायत कर रहे हैं। सीएम ने ये भी कहा कि, केंद्र के कदम से लोगों का गुस्सा और बढ़ेगा। सीएम ने कहा कि, एक सुनियोजित तरीके से केंद्र पंजाब के कुछ आढ़तियों के यहां छापेमारी करवा रहा है, जिससे आढ़तियों पर दबाव बनाया जा सके। केंद्र चाहता है कि, आढ़ति अपने लोकतांत्रिक अधिकारों का इस्तेमाल न कर सके और उनकी ये आज़ादी रोकने के लिए ही उन पर दबाव बनाया जा रहा है। बीजेपी को ये दमनकारी नीति उल्टी ही पड़ेगी।

इसे भी पढ़ें: नेपाल में गहराया सियासी संकट, प्रधानमंत्री ने संसद भंग करने का लिया फैसला

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि, कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले काफी लंबे समय से किसान संघर्ष कर रहे हैं। किसानों को गुमराह करने, मनाने और उन्हें बांटने के कई प्रयास केंद्र कर चुकी है, लेकिन उसमे वो कामयाब नहीं हुई है। यही वजह है कि, केंद्र सरकार ने अब आंदोलन को कमजोर करने के लिए आढ़तियों को निशाना बनाया है और उनके घर छापेमारी शुरू कर दी है। ये लोग शुरुआत से ही आंदोलन और किसानों का समर्थन कर रहें हैं। सीएम ने कहा जिन आढ़तियों के ठिकानों पर छापेमारी हुई है, उन्हें जो नोटिस चार दिन पहले दिया गया था। उसके जवाब का भी इंतज़ार नहीं किया गया।

इस कार्रवाई से पता चलता है कि, इस प्रक्रिया में ही कानून का पालन नहीं हुआ है। स्थानीय पुलिस को भी इसकी सूचना नहीं है, आयकर की टीम जब छापा मारने गयी तो साथ में सीआरपीएफ के जवान सुरक्षा में थे। राज्य में 14 आढ़तियों को आयकर विभाग की तरफ से नोटिस मिले हैं। बीते शुक्रवार रात को नवांशहर आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान मनजिंदर वालिया के व्यावसायिक कार्यालयों, दुकान व होटल पर आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की थी।

इसे भी पढ़ें: बिहार मे स्लीपर सेल की तरह काम कर रहे थे अफगानी नागरिक