पेट्रोल-डीजल के बाद अब प्याज के दामों ने भरी उड़ान, बढ़ती महंगाई से आम आदमी को नहीं मिलेगी राहत

113

नई दिल्ली। आम आदमी पर एक साथ महंगाई का बोझ बढ़ता जा रहा है। पेट्रोल-डीजल के साथ रसोई गैस की कीमतों हुई बढ़ोत्तरी से लोगों की जेब पहले से हल्की थी। वहीं जो रफ्तार प्याज के दामों ने पकड़ी है, उसके बाद आम आदमी का बजट गड़बड़ा गया है। रीटेल बाजार ने प्याज के दाम पचास रुपए प्रति किलो तक पहुंच गए हैं। लगातार प्याज के आसमान छूते दामों को देखते हुए सरकार ने उम्मीद जताई है कि, मार्च माह में प्याज की नई फसल आएगी, जिसके बाद उसके दाम कम हो जायेंगे। प्याज के बढ़ते दामों को देखते हुए केंद्र सरकार जल्द ही बफर स्टॉक से राज्यों को जारी कर सकती है।

इसे भी पढ़ें: पूर्व बाहुबली सांसद फरार, अजीत सिंह हत्याकांड में आया नाम, संपत्ति जब्त कर सकती है पुलिस

महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में बेमौसम हुई बरसात के बाद प्याज के दामों में बढ़ोत्तरी की एक वजह बताई जा रही है। दोनों ही राज्यों में बरसात और ओले गिराने से फसल बर्बाद हुई है। इसकी वजह से ही एशिया की सबसे बड़ी मंडी लासलगांव में प्याज के दाम 4,200 रुपए प्रति क्विंटल तक पहुंच गए हैं। राजधानी दिल्ली में पिछले तीन हफ़्तों में प्याज के दामों में 10 से 15 रुपए तक बढ़ोत्तरी हुई है। राजधानी में प्याज के दाम 30 जनवरी को 39 रुपए प्रति किलो थे जबकि 19 फरवरी को 50 रुपए प्रति किलो थे। जनवरी की शुरुआत में प्याज के दाम बीस से पच्चीस रुपए प्रति किलो थे।

सरकार भले ही ये मान कर चल रही है कि, मार्च में प्याज की कीमतों में कमी देखने को मिलेगी, लेकिन जानकार ऐसा नहीं मानते हैं। उनका कहना है कि, प्याज के दामों में लगी आग आगे और भी बढ़ेगी। इसका साफ़ मतलब है कि, आम जनता को महंगाई जल्द राहत मिलने की उम्मीद न के बराबर ही है।ईंधन के दामों में लगी आग के बाद प्याज के लगातार बढ़ते दामों से आम आदमी काफी परेशान है।

इसे भी पढ़ें: आज रात बारह बजे से पैट्रोल और डीजल के दामों में भारी कटौती