माफिया मुख्तार अंसारी पर बड़ी कार्रवाई, लखनऊ में दो इमारतें हुईं ध्वस्त, बेटों से हुई झड़प

4501

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अपराधियों की कमर तोड़ने में लगी हुई है। जहां एक तरफ अपराधियों के ताबड़तोड़ एनकाउंटर किए जा रहे हैं तो वहीं तरफ उनकी अवैध संपत्तियों को भी जब्त करने की कार्रवाई जारी है। माफिया मुख्तार अंसारी के खिलाफ एलडीए ने आज बड़ी कार्रवाई की है। राजधानी लखनऊ के डालीबाग में बने मुख्तार अंसारी के बेटों की दो इमारतों को धरासायी कर दिया है। इस दौरान मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास व उमर अंसारी ने प्रशा​सनिक अधिकारियों से उलझ गए, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें मौके से खदेड़ कर भगा दिया।

इसे भी पढ़ें: क्या 28 अगस्त से यूपी में लगेगा लॉकडाउन? जानिए, सरकार ने क्या कहा

बताते चलें कि मुख्तार अंसारी के बेटों ने डालीबाग में शत्रु संपत्ति पर कब्जा कर दो मंजिला इमारत बना ली थी। इस पर एलडीए संयुक्त सचिव ऋतु सुहास ने 11 अगस्त को इमारत गिराने का आदेश जारी किया था। इसी के तहत गुरुवार की सुबह गिराने की कार्रवाई शुरू हुई। बिल्डिंग को गिराने के लिए एलडीए और पुलिस प्रशासन सहित 250 से अधिक पुलिसकर्मी और 20 से अधिक जेसीबी गई थीं। एलडीए ने कुछ ही समय में बुलडोजर चलवाकर माफिया की इमारत को देखते—देखते जमींदोज कर दिया।

गौरतलब है कि यूपी पुलिस का शिकंजा मुख्तार गैंग पर लगातार कसता जा रहा है। पूर्वांचल से लेकर लखनऊ तक मुख्तार से जुड़े उसके गुर्गों पर पुलिस ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही है। वहीं मऊ पुलिस ने इस बीच मुख्तार के करीबी 12 अपराधियों को जिला बदर किया है।

जिला बदर किए गए अपराधियों में मुख्तार अंसारी का शार्प शूटर अनुज कनौजिया, सभासद अल्तमश, तारिक, अनीश, मोहर सिंह, जुल्फिकर कुरैशी, मोहम्मद सलमान, आमिर हमजा, जावेद आरजू, मोहम्मद हाशिम, मोहम्मद तलहा और राशिद शामिल हैं। इस बारे में जानकारी देते हुए मऊ के एसपी ने बताया कि इन लोगों को 6 महीनों के लिए जिला बदर किया गया है। इन सभी अपराधियों के शस्त्र लाइसेंस भी रद्द कर ​दिए गए हैं साथ ही अन्य कार्रवाई भी की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: यूपी में टल सकता है पंचायत चुनाव, कोरोना के चलते नहीं हो पाई है तैयारी