किसानों को कंपनी ने लगाया करोड़ों का चूना, मंडी रेट से ज्यादा में खरीदी फसल, चेक हुआ बाउंस

76

नई दिल्ली। दिल्ली की सीमाओं पर जहां किसान अपनी मांगों को लेकर बीते एक माह से ज्यादा समय से प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं मध्य प्रदेश के हरदा जिले में किसानों के साथ ठगी का मामला सामने आ रहा है। एक कंपनी ने जिले के लगभग 24 किसानों से एक साथ फसल का समझौता किया। लेकिन जब भुगतान का समय आया तो कंपनी फरार हो गई। किसानों को अनुसार अब उन्हें ट्रेडर्स का उन्हें कुछ पता ही नहीं लग रहा है। किसानों का कहना है कि, चना-मसूर के लिए उन्होंने लगभग दो करोड़ रुपए का समझौता किया था, उन्हें कंपनी ने उन्हें चूना लगा दिया है।

इसे भी पढ़ें: सुमैया राणा को सपा में शामिल कराने के बाद बोले अखिलेश, सत्ता में आए तो एनआरसी के प्रर्शनकारियों पर दर्ज मुकदमे होंगे वापस

खोजा ट्रेडर्स से दरदा के देवास में 22 किसानों ने फसल का समझौता किया था। लेकिन जब कंपनी को भुगतान करना था तो वो गायब हो गई। अब उसका कोई पता ही नहीं चल रहा है। जब किसानों ने ट्रेडर्स में पता किया तो सामने आई जानकारी ज्यादा चौका देने वाली थी। क्योंकि कंपनी ने अपना रजिस्ट्रेशन खत्म कर दिया है। इसके बारे में कंपनी ने किसानों को कोई भी जानकारी नहीं दी।

अब इस धोखाधड़ी के मामले खातेगांव पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई गई है। वहीं जिला प्रशासन को लिखित शिकायत दी गई है। किसानों का कहना है कि, उनके आस पास के कई गांव के किसानों के साथ भी ठीक घटना हुई है। इन किसानों की संख्या करीब 150 बताई जा रही है। किसानों का कहना है कि, ट्रेडर्स ने उन्हें जो चेक दिया था, वो जब बाउंस हो गया तो उन्हें कंपनी पर उन्हें शक हुआ। कंपनी ने उन्हें मंडी रेट से 700 रुपए ज्यादा दाम देने के लिए कहा था।

किसानों ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत में बताया है कि, खोजा ट्रेडर्स के दो भाइयों ने उन्हें अपना लाइसेंस दिखाकर उनकी फसल ले ली और रुपए देने की बात की। लेकिन जब उन्हें भुगतान नहीं हुआ तो, उन्होंने मंडी में संपर्क किया। तब उन्हें कंपनी की सच्चाई पता चली कि, उनका रजिस्ट्रेशन ही नहीं है। फ़िलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

इसे भी पढ़ें: फिर हुआ बंगाल में बवाल, सुवेंदु की रैली पर हमला, कई लोग घायल, कई गाड़ियां हुई क्षतिग्रस्त