अजीत सिंह हत्याकांड का मुख्य आरोपी पुलिस मुठभेड़ में ढेर, इंस्पेक्टर की पिस्टल छीनकर भागने की थी कोशिश

253

लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ की पुलिस में सोमवार की सुबह एनकाउंटर में हिस्ट्रीशीटर और पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह मर्डर केस मुख्य आरोपी गिरधारी को ढेर कर दिया। पुलिस का कहना है कि, आरोपी ने पुलिस का हथियार छीनकर मौके से भागने का प्रयास किया। इस वजह से पुलिस को गोली चलानी पड़ी। पुलिस के मुताबिक, सोमवार की सुबह वो गिरधारी को लेकर सहारा हॉस्पिटल के पीछे खरगापुर क्रॉसिंग के पास लेकर पहुंची थी। पुलिस आरोपी को अजीत सिंह की हत्या में इस्तेमाल किये गए असलहा बरामदगी के मकसद से ले गई थी। मौके पर जब पुलिस पहुंची तो आरोपी के साथ बैठे उप निरीक्षक अख्तर उस्मानी गाड़ी से जब उतरने लगे तो गिरधारी ने उनके इंस्पेक्टर की नाक पर अपना सिर मार दिया। इस दौरान जैसे ही उसमानी गिरे तो आरोपी ने उनकी पिस्टल छीन ली और भागने लगा।

इसे भी पढ़ें: अब भारत से मेंथा ऑयल हासिल करने में छूट जाएंगे चीन के पसीने, मोदी सरकार ने कड़े किए ये नियम

वरिष्ठ उप निरीक्षक अनिल सिंह उसका पीछा ने किया। पुलिस को पीछे आता देख गिरधारी ने फायर किया और वहीं झाड़ियों में घुस गया। पुलिस ने इसकी सूचना तुरंत ब्रैवो कंट्रोल रूम और 112 पर दी, जिसके बाद मौके पर डीसीपी पूर्व भी पहुंच गए। पुलिस ने गिरधारी को चारों ओर से घेर कर आत्मसमर्पण करने के लिए कहा, लेकिन उसने पुलिस की एक भी नहीं सुनी। बीच-बीच में गिरधारी फायर करता रहा ताकि पुलिस उसके करीब न आये। इस दौरान जब पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई तो एक गोली उसे भी लग गई, जिससे वो वहीं झाड़ियों में ही गिर गया।

पुलिस जब उसके पास पहुंची तो उसकी सांसे चल रही थी। इसके बाद उसे तुरंत राम मनोहर लोहिया इमरजेंसी में ले जाया गया। जहां इलाज के दौरान गिरधारी की मौत हो गई। रिपोर्ट्स के अनुसार, गिरधारी की रिमांड आज ही खत्म होने वाली थी। 6 जनवरी को लखनऊ के विभूतिखंड में अजीत सिंह हत्याकांड में गिरधारी शामिल था। उसे 11 जनवरी को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था।

इसे भी पढ़ें: बस्ती:भाजपा के वरिष्ठ नेता रमांकात पांडेय ने विहिप के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक को सौंपी लाखों की समर्पण राशि