साल के पहले ही दिन पाकिस्तान ने LOC पर की भारी गोलीबारी, नायब सूबेदार रविंद्र कुमार हुए शहीद

680

नई दिल्ली। साल बदला लेकिन पाकिस्तान नहीं बदला, जम्मू कश्मीर के राजौरी के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से शुक्रवार को गोलाबारी में नायब सूबेदार रविंद्र कुमार शहीद हो गए। जिनका पार्थिव शरीर हेलिकॉप्टर से दिल्ली लाया जाएगा। शहीद रविंद्र कुमार हरियाणा के झज्जर जिले के गांव साल्हावास रहने वाले थे। उनके पार्थिव शरीर को दिल्ली में राजकीय सम्मान दिया जायेगा। उसके बाद उनके शव को पैतृक गांव पहुंचाया जायेगा। साल्हावास पुलिस थाना प्रभारी ने मीडिया से बात करते हुए जानकारी दी कि, सेना के अधिकारियों से शहीद के परिजनों को शनिवार सुबह जानकारी मिली है। शहीद नायब सूबेदार रविंद्र कुमार का अंतिम संस्कार गांव में ही सैनिक सम्मान के साथ सरकारी स्कूल के पास पंचायती भूमि पर होगा।

इसे भी पढ़ें: नई मुसीबत में फंसी टीम इंडिया, तीसरे टेस्ट से पहले रोहित-पंत सहित इन खिलाड़ियों पर लगे गंभीर आरोप

साल के पहले ही दिन पाकिस्तान की तरफ से तोड़े गए सीजफायर में नायब सूबेदार रविंद्र कुमार घायल हो गए थे। जिन्होंने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहना है कि- 1 जनवरी दोपहर को लगभग3.30 बजे बिना किसी उकसावे के पाकिस्तान की तरफ से छोटे हथियारों से फायरिंग होने लगी। इस दौरान राजौरी के नोशेरा सेक्टर में LOC पर पाकिस्तान ने मोर्टार भी दागे। पाकिस्तान ने वर्ष 2020 में 5100 बार सीजफायर का उल्लंघन किया था। पिछले 18 वर्षों में यह सबसे अधिक बार सीजफायर तोड़ा गया है। इसमें तीस नागरिकों की मौत हुई थी, वहीं 130 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

बीते वर्ष पाकिस्तान ने LOC पर सीजफायर का उल्लंघन इसलिए ज्यादा किया क्योंकि राज्य के भीतर लगातार आतंकियों का सफाया जारी था। भारतीय सुरक्षाबलों ने वर्ष 2020 में राज्य में 100 ऑपरेशन किये हैं। इनमे से 90 तो कश्मीर में हुए हैं। इन ऑपरेशन में 255 आतंकी ढेर हुए थे, जिसमे 46 टॉप कमांडर भी शामिल हैं। राज्य में हो रहे आतंकियों के सफाये से पाकिस्तान बौखला गया था, उसकी यही कोशिश थी कि, LOC पर भारी गोलाबारी करके आतंकियों को भारतीय सीमा में दाखिल कराया जाए, लेकिन ऐसा करने में भी वो सफल नहीं हुआ।

इसे भी पढ़ें: पंजाब के CM अमरिंदर सिंह को मिली जान से मारने की धमकी, अलर्ट मोड पर आई पुलिस