अदृश्य दुश्मन को भी अब ढेर कर देगा ये घातक हथियार, चीन-पाकिस्तान की सांसे थमी

69

नई दिल्ली। भारत अपने दुश्मनों को ध्यान में रखते हुए लगातार अब घातक हथियार बना रहा है। हवा से हवा में 160 किलोमीटर की दूरी पर भारत जल्द एस्ट्रा मार्क 2 मिसाइल की टेस्टिंग शुरू करने जा रहा है। इस परीक्षण के बाद भारत चीन और पाकिस्तान पर आने वाले समय में भारी पड़ेगा। विजिबल रेंज से बाहर के दुश्मन के विमान को निशाना बनाने के लिए एस्ट्रा मार्क-2 मिसाइल बेहद कारगर होगी। एस्ट्रा मार्क 2 के सफल परीक्षण के बाद भारत अपने दुश्मनों पर काफी भारी पड़ेगा और उनसे एक कदम आगे रहेगा। युद्ध के समय भारतीय फाइटर जेट पहले से ज्यादा घातक हो जाएंगे। अगर भारत के ऐसी मिसाइल बालाकोट एयर स्ट्राइक से पहले होती तो परिणाम और बेहतर हो सकते थे।

इसे भी पढ़ें: सिक्सर किंग युवराज सिंह के खिलाफ दर्ज हुई FIR, हो सकती है जल्द गिरफ्तारी

जब पाकिस्तान वायु सेना के विमानों ने भारतीय सैन्य बेस पर हमले का प्रयास किया था। इस आधुनिक मिसाइल की मदद से भारतीय वायु सेना के जेट बिना दुश्मन के देश में घुसे उसे बड़ा नुकसान पहुंचा देगा। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कि, मौजूदा वर्ष के अंत तक एस्ट्रा मार्क मिसाइल का परीक्षण शुरू हो सकता है। वहीं इस बात की भी उम्मीद जताई जा रही है कि वर्ष 2022 के अंत तक ये घातक मिसाइल पूरी तरह से डेवलेप हो जाएगी। एक्सपर्ट्स का भी कहना है कि, वर्ष 2022 के आखिर तक या फिर 2023 की शुरुआत के कुछ महीनों में मिसाइल पूरी तरह से इस्तेमाल के लिए तैयार हो जाएगी।

एस्ट्रा मार्क-2 की खास बात है कि, ये अपनी आवाज से भी चार गुना ज्यादा तेज गति से उड़ान भरती है। इसे तेजस पर सौ किलोमीटर से ज्यादा की स्ट्राइक रेंज मिसाइल समन्वित करने की कोशिश की जा रही है। मिसाइल सभी मौसम में दिन हो या रात कभी भी इस्तेमाल हो सकती है। इसकी इस वक़्त स्ट्राइक रेंज करीब सौ किलोमीटर है। मिसाइल सभी मौसम में दिन हो या रात कभी भी इस्तेमाल हो सकती है। इसकी इस वक़्त स्ट्राइक रेंज करीब सौ किलोमीटर है। भारत में डेवलप होने के बाद ये मिसाइल फ्रांसीसी, इजरायल और रूसी मिसाइल की जगह लेगी।

इसे भी पढ़ें: प्रियंका की हुंकार : पीएम ने 16 हजार करोड़ का विमान खरीदा लेकिन किसानों का बकाया भुगतान नहीं