लॉकडाउन के ऐलान के बाद बाजार में उमड़ी भारी भीड़, बढ़ा संक्रमण का खतरा

0
677

मुंबई। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने महाराष्ट्र को दोबारा बड़े संकट में डाल दिया है। प्रदेश के कई जिलों संक्रमण की रफ्तार देखते हुए लॉकडाउन लगा दिया गया है। राज्य में भले ही संक्रमण के बढ़ते मामलों से सरकार चिंता में है लेकिन सच यही है कि लोग आज भी संक्रमण के बढ़ते खतरे को नजरअंदाज कर रहे हैं। नागपुर में लॉकडाउन के एलान के बाद बाज़ारों में भीड़ उमड़ आई है, जिसमे किसी भी नियम का पालन नहीं किया जा रहा है। जिले में प्रशासन द्वारा 15 मार्च से एक हफ्ते का लॉकडाउन लग रहा है, जिसे देखते हुए बाजार में लोग बड़ी संख्या में पहुंचकर खरीदारी कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें:- बीजेपी विधायक ने विधानसभा में की आत्महत्या की कोशिश, सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

इस दौरान लोग सोशल डिस्टन्सिंग रखना भूल ही चुके हैं। राज्य में संक्रमण के खतरे देखते हुए कई जिलों में प्रशासन द्वारा पाबंदियां लगाई गईं हैं। जिला प्रशासन ने 31 मार्च तक के लिए पुणे में स्कूल और कॉलेज बंद रखने के निर्देश दिए हैं। होटलों और रेस्तरांओं को खुला रखने की टाइमिंग में भी कमी की गई है। राज्य में कुल 36 जिले हैं, जिसमे से दस जिले ऐसे हैं, जहां संक्रमण काफी तेजी से अपने पांव पसार रहा है। इनमे से 8 जिलों में कर्फ्यू और सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है।

महाराष्ट्र में लगातार तीन दिनों से संक्रमण के मामले 10 हज़ार से ज्यादा आ रहे हैं। बीते शुक्रवार को भी राज्य में 15,817 नए केस सामने आए हैं। जबकि 11,344 केस रिकवर हुए हैं और 56 मरीजों की मौत हुई है। इससे पहले पिछले वर्ष 1 अक्टूबर को राज्य में 16,476 मामले सामने आए थे। महाराष्ट्र में बुधवार को 13,659 और गुरुवार को 14,317 मामले सामने आए थे। जबकि देश में पिछले 24 घंटे में 24,845 नए संक्रमित मामले मिले और 19,972 मामले ठीक हुए हैं। वहीं पिछले 24 घंटे में संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा भी बढ़ा है और 140 लोगों की मौत हुई है।

इसे भी पढ़ें:- बंगाल में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ाएंगे राकेश टिकैत, करेंगे किसान महापंचायत