किसान आंदोलन से मोदी सरकार को अस्थिर होने का है डर, चीन ने दुनिया के सामने उठाया मुद्दा

226

नई दिल्ली। भारत में नए कृषि कानूनों को लेकर पिछले दो माह से ज्यादा वक़्त से किसानों का आंदोलन दिल्ली ली सीमाओं पर चल रहा है। इसे लेकर चीन के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने जहर उगला है। चीन की सोच से यही लग रहा है कि, वो भारत में भी तख्तापलट और अस्थिरता का सपना देख रहा है। 26 जनवरी को दिल्ली में हुए उपद्रव के बाद दिल्ली एनसीआर में इंटरनेट की सेवा बंद कर दी गयी थी। ऐसा इसलिए किया गया था कि, असामजिक तत्व किसी तरह की अफवाह न फैला सके।

इसे भी पढ़ें: लखनऊ: बार में भिड़े युवक-युवतियां, जमकर चले लात घूंसे

गणतंत्र दिवस के दिन हुए उपद्रव की वजह फेक न्यूज़ ही थी, जिसमे कहा गया था कि, पुलिस ने एक किसान को गोली मार दी है। दिल्ली और इसके आसपास के कुछ जिलों में बंद की गई इंटरनेट सेवा को चीन ने मोदी सरकार का डर बताया है। ग्लोबल टाइम्स में छापे लेख में कहा गया है कि, मोदी सरकार को अब अस्थिर होने का डर सता रहा है। इस लेख में लिखा गया है कि, भारत में इन दिनों कृषि कानूनों आंदोलन चल रहा है।

इस बीच भारत सरकार ने दिल्ली सहित उन क्षेत्रों के आस पास इंटरनेट की सेवा बंद कर दी गई है, जहां कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन चल रहा है। पिछले दिनों चीन ने उसके खिलाफ हांगकांग में हो रहे हैं प्रदर्शन को पुलिस के दम कुचलने का प्रयास किया था। वहीं चीन अब भारत में चल रहे कृषि आंदोलन को लेकर सवाल उठा रहा है, जिससे पूरी दुनिया का ध्यान इस मुद्दे पर जाए।

देश में किसानों का आंदोलन शांतिपूर्वक चल रहा है। इसे चीन हिंसक और और तख्तापलट करने वाले प्रदर्शन बताने का प्रयास कर रहा है। ग्लोबल टाइम्स में छपे लेख में कहा गया है कि, आंदोलन की वजह से मोदी सरकार ने इंटरनेट की सेवा बंद कर दी गई है। वहीं अब मीडिया पर नियंत्रण करने का रास्ता सरकार ने चुना है, जिससे सामाजिक स्थिरता और शासन की नींव पर पड़ने वाले प्रभाव को रोका जा सके।

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी को उनकी ही पार्टी के विधायक दीपक हल्दर ने दिया बड़ा झटका