मोदी सरकार पेट्रोल पर 32.90, डीजल पर 31.80 रुपए प्रति लीटर वसूल रही है उत्पाद शुल्क, कांग्रेस ने साधा निशाना

94

नई दिल्ली। देश में लगातार डीजल-पेट्रोल के बढ़ते दामों की वजह से आदमी पर महंगाई का खर्च बढ़ता जा रहा है। राजस्थान में कांग्रेस पार्टी ने डीजल-पेट्रोल बढ़ते दामों और कृषि कानून के विरोध में ट्रैक्टर और पैदल मार्च किया है। जयपुर में पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के हाथों में पोस्टर और बैनर भी दिखाई दिए। दूसरी तरह कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, सप्ताह के सभी दिन महंगे दिन है। बीजेपी को उस दिन को अच्छा दिन घोषित कर देना चाहिए, जिस दिन तेल की कीमतों में कोई बढ़ोत्तरी न हो।

इसे भी पढ़ें: अब अमेठी में रहेंगी स्मृति ईरानी, 22 फरवरी को कराएगी जमीन की रजिस्ट्री

प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते लिखा कि, बीजेपी सरकार को सप्ताह के उस दिन का नाम अच्छे दिन रख देना चाहिए, जिस दिन पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई इजाफा न हो। महंगाई की वजह से सप्ताह के बाकी दिन तो आम जनता के लिए ‘महंगे दिन’ हैं। पेट्रोल -डीजल के लगातार बढ़ते दामों को लेकर राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि, ईंधन की बढ़ती कीमतों की वजह सरकार की गलत नीतियां हैं। सीएम ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि, आम जनता पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों से त्रस्त है। लगातार पिछले 11 दिनों से दाम बढ़ रहे हैं।

ऐसा मोदी सरकार की गलत नीतियों की वजह से हो रहा है। कच्चे तेल के दाम अंतरराष्ट्रीय बाजार में UPA के कार्यकाल के समय की तुलना आज आधे हैं। उसके बाद भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें अपने सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गई हैं। मोदी सरकार पेट्रोल पर 32.90 रुपए और डीजल पर 31.80 रुपए प्रति लीटर उत्पाद शुल्क लगाती है। जबकि UPA सरकार पेट्रोल पर 9.20 रुपए और डीजल पर सिर्फ 3.46 रुपए उत्पाद शुल्क था।

इसे भी पढ़ें: शिवराज सिंह ने किया होशंगाबाद का नाम बदलने का ऐलान, प्रदेश में गरमाई सियासत