दिल्ली की जनता ने रातों रात हनुमान मंदिर बनाकर केजरीवाल सरकार के मुंह पर मारा तामचा

512

दिल्ली के चांदनी चौक क्षेत्र में हनुमान मंदिर तोड़े जाने बाद राजधानी में बड़ा सियासी तूफान आया था। बीजेपी और आप आमने-सामने आ चुकीं थी। गुरुवार रात इस ही स्थान पर रातों रात दोबारा हनुमान बना दिया गया है। शुक्रवार सुबह होते ही जब लोगों चांदनी चौक के उस स्थान हनुमान मंदिर देखा, जहां तोड़ा गया था। इसे देख लोग हैरान हो गए। धीरे-धीरे करके ये खबर फैलने लगी और लोग मंदिर आना शुरू हो गए। नया मंदिर लोहे और स्टील से बना है। चांदनी चौक में चल रहे सुंदरीकरण के काम के दौरान 3 जनवरी की सुबह क्षेत्र में बने हनुमान मंदिर को तोड़ा गया था।

इसे भी पढ़ें: बिहार में जन्मा अजीबो गरीब बच्चा, देख कर डरे स्वास्थ्यकर्मी, देखने वालों की उमड़ी भीड़

मंदिर तोड़े जाने को लेकर उत्तर दिल्ली नगर निगम के अधिकारियों का कहना था कि, मंदिर को तोड़ा नहीं गया है, उसे सिर्फ शिफ्ट किया गया है। गौरतलब है कि, चांदनी चौक ने दिल्ली सरकार द्वारा सुंदरीकरण का काम कराया जा रहा है। इस दौरान ही मुख्य सड़क पर बने हनुमान मंदिर को लेकर विवाद खड़ा हुआ था। निगम का कहना था कि, उसे सुंदरीकरण के निर्माण कार्य में परेशानी आ रही है। इसके बाद मंदिर को हटा दिया गया था, जिसके बाद आम आदमी पार्टी की सरकार पर कांग्रेस और बीजेपी ने निशाना साधा था।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने वर्ष 2015 में उन धार्मिक स्थलों को हटाने की बात की थी, जो गैर-कानूनी रूप राजधानी में बने हुए हैं। कोर्ट ने अपने इस आदेश को दोबारा फिर वर्ष 2020 में दोहराया। इसके बाद भी लगभग 50 वर्ष पुराने चांदनी चौक स्थित हनुमान मंदिर को निगम द्वारा तोड़ा गया था। इस मामले को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में भी एक याचिका डाली गई थी, लेकिन कोर्ट ने मामले की सुनवाई करने से इंकार कर दिया था।

कोर्ट ने ये भी कहा था कि, इस मामले को आगे न बढ़ाया जाए। दिल्ली से बीजेपी सांसद मनोज तिवारी का कहना है कि, हमने सौंदर्यीकरण का विरोध नहीं किया था। हम तो मंदिर दोबारा स्थापित करवाने की बात कर रहे थे, लेकिन लोगों ने ही मंदिर दोबारा बनवा दिया। जो केजरीवाल सरकार के मुंह पर एक तमाचा है।

इसे भी पढ़ें: बिहार में जन्मा अजीबो गरीब बच्चा, देख कर डरे स्वास्थ्यकर्मी, देखने वालों की उमड़ी भीड़