कोरोना का कहर : लखनऊ में श्मशान घाट के बाहर लगी शवों की कतार, दाह संस्कार के लिए मिल रहा है टोकन

596

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर बेकाबू हो चुकी है। राज्य में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही मरने वालों की भी संख्या बढ़ने लगी है। राजधानी लखनऊ के हालात बेहद खराब है। श्मशान में घाट में अंतिम संस्कार के लिए 8 से 12 घंटे तक इंतजार करना पड़ रहा है। बुधवार को राजधानी के बैकुंठ धाम श्मशान घाट के बाहर का नजारा देखकर लोगों के होश उड़ गए। लगातार शव अंतिम संस्कार के लिए आ रहे हैं, जिसकी वजह से मृतकों के परिजनों को 12 घंटों तक इंतजार करना पड़ रहा है। एक एम्बुलेंस दो से तीन शव तक रखें हुए हैं और हर शव के लिए टोकन बांटा गया है।

इसे भी पढ़ें:- चरम पर पहुंचा कोरोना, एक दिन में 1.25 लाख के आकंड़ों को किया पार, जानें कहां-कहां लगीं पाबंदियां

पिछले 24 घंटे में उत्तर प्रदेश में कोरोना के 6,023 मामले सामने आए हैं। 40 लोगों की मौत हुई है। जबकि लखनऊ में संक्रमण 1,333 नए मामले सामने आए हैं और 6 संक्रमितों की मौत हुई है। सीएमओ ऑफिस की तरफ जारी जानकारी के अनुसार, राजधानी में पिछले 3 दिनों में 20 संक्रमितों की मौत हुई है। लेकिन सच्चाई इसके विपरीत नजर आ रही है। वहीं श्मशान घाट में 60 शव अंतिम संस्कार के पहुंचे थे। ये सभी शव कोरोना संक्रमित मरीजों के थे। बुधवार शाम को बैकुंठ धाम श्मशान घाट बाहर एंबुलेंस कतार लगने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

राजधानी में पिछले 10 दिनों में हालात काफी बिगड़ चुके हैं। प्रशासन ने स्थिति को समझने में ज्यादा समय लगा दिया। अस्पतलों में हालात बेहद खराब है। कोरोना के मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं लेकिन अस्पतालों में उन्हें भर्ती करने में 20 से 24 घंटे लग रहे हैं। लोगों को एंबुलेंस तक समय पर नहीं मिल रही है। सूबे में कोरोना के 31,987 सक्रिय हैं। वहीं लखनऊ संक्रमण के 8,852 मामले एक्टिव हैं। कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए 8 अप्रैल से रात 9 से सुबह 6 बजे तक नाईट कर्फ्यू लगा दिया गया है। इस दौरान सिर्फ जरुरी सेवाओं की आवाजाही मान्य होगी।

इसे भी पढ़ें:- अनजान नंबरों से वीडियो कॉल उठाना पड़ेगा भारी, ऐसे हो सकते हैं ब्लैकमेलिंग के शिकार