जुमे की नमाज के बाद जामा मस्जिद पर CAA का विरोध प्रदर्शन, नजर आईं कांग्रेस नेता अलका लांबा

176

 CAA के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन हो रहा है। आज जुमे की नमाज के बाद एक बार फिर से प्रदर्शन तेज हो सकती थी . लेकिन इसके लिए उत्तर प्रदेश की सरकार ने पहले से ही हाई अलर्ट जारी कर दिया है। शुक्रवार यानी जुमे के निगाह के सामने हो उत्तर प्रदेश में प्रदर्शन को देखते हुए सख्ती बढ़ा दी गई है  आपको बता दें कि गाजियाबाद, लखनऊ समेत कई जिलों में इंटरनेट को बंद कर दिया गया है। सीएए के विरोध में शुक्रवार को एक बार फिर जुमे की नमाज के बाद दोबारा प्रदर्शन शुरू होने की आशंका के निगाह के सामने हो जिलों को अलर्ट कर दिया गया है। प्रदेश के 18 संवेदनशील जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई थी. दरअसल वहीं दिल्ली के भी प्रदर्शन वाले इलाकों में इंटरनेट बैन है। तो चलिए जानते हैं

जुमे की नमाज़ को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए थे. बता दें कि पिछले शुक्रवार को नमाज के बाद जामा मस्जिद के बाहर प्रदर्शन हुआ था. इसी कारण आज पूरे रूट पर दिल्ली पुलिस तैनात की गई है, इतना ही नहीं ड्रोन कैमरे से भी नज़र रखी जा रही है. हालांकि, आज पहले ही कहा जा रहा था कि आज का विरोध शांतिपूर्ण हुआ था.

आपको बता दें कि पिछले हफ्ते हुई नमाज और प्रदर्शन के बाद यहां भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद मौजूद थे, और बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. लेकिन आज के प्रदर्शन में कांग्रेस नेता अलका लांबा मौजूद रहीं.

दरअसल, जल्द ही दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने वाला हैं. आने वाले चुनाव में नागरिकता संशोधन एक्ट, नेशनलरजिस्टर फॉर सिटिजन के साथ-साथ जामिया इलाके में हुई हिंसा भी बड़ा मुद्दा बन सकती है. यही कारण है कि राजनीतिक दल पूरी तरह से तैयार नज़र आ रहे हैं. दिल्ली में सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान सीलमपुर, जामियानगर इलाके में हिंसा हो चुकी है. बीते दिनों जामिया नगर, सीलमपुर इलाके में प्रदर्शनकारियों ने जुमे की नमाज पढ़ने के बाद पुलिस पर पत्थरबाजी और गाड़ियों में तोड़फोड़  की थी.  यह भी पढ़े: CAA का विरोध करना गोरखपुर के दंगाइयों को पड़ा भारी, योगी सरकार ने शुरू की संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई