पूर्व बाहुबली सांसद फरार, अजीत सिंह हत्याकांड में आया नाम, संपत्ति जब्त कर सकती है पुलिस

263

लखनऊ में खुले आम हुई अजीत सिंह की हत्या मामले में अब पूर्व बाहुबली सांसद धनंजय सिंह का नाम सामने आया है। पुलिस ने इस वारदात में शामिल कई लोगों से पूछताछ की है, जिसके बाद पूर्व सांसद का नाम शामिल आ रहा है। पुलिस ने इस दौरान अजीत सिंह की पत्नी से भी पूछताछ की है। पुलिस ने पूर्व सांसद को गिरफ्तार करने की भी कोशिश की, लेकिन पुलिस को सफलता नहीं मिली, जिसके बाद बीते शनिवार को पूर्व सांसद के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी कराया है। अगर धनंजय सिंह की गिरफ़्तारी अब भी नहीं हो पाती है तो उन्हें पुलिस भगोड़ा घोषित कर देगी और उनकी संपत्ति जब्त कर लेगी।

इसे भी पढ़ें: CAA-NRC और हाथरस कांड में दंगा भड़काने के मामले में STF ने PFI दफ्तर पर की छापेमारी

गौरतलब है कि, लखनऊ में अजीत सिंह की हत्या 6 जनवरी को हुई थी। हत्या के दूसरे दिन अजीत की पत्नी रानू सिंह ने आजमगढ़ के कुंटू सिंह, अखंड सिंह, गिरधारी विश्वकर्मा और जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह के खिलाफ तहरीर मऊ में दी थी, जिसके बाद मऊ पुलिस ने वारदात लखनऊ में होने का हवाला देते हुए सम्बंधित थाने में तहरीर देने की बात की थी। इसके बाद अजीत के करीबी मोहर सिंह ने लखनऊ के विभूतिखंड थाने में केस दर्ज कराया था।

रानू सिंह ने अपने बयान खुलकर धनंजय सिंह, अखंड सिंह, गिरधारी, कुंटू सिंह का नाम लिया था। अजीत सिंह की पत्नी के इस बयान को पुलिस ने अपनी कार्रवाई में शामिल कर लिया था, जिसके बाद पुलिस ने पूर्व सांसद के खिलाफ भी कार्रवाई करने के लिए सबूत जुटाने शुरू कर दिए थे। लखनऊ में हुई अजीत सिंह हत्या के दौरान एक शूटर घायल हो गया था।

जब पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की तो ये जानकारी सामने आई कि, वो घटना को अंजाम देने के बाद सुल्तानपुर गया था। जहां उसका इलाज एक निजी अस्पताल में हुआ था। इसके बाद पुलिस ने अस्पताल के मालिक और डॉक्टर एके सिंह की तलाश शुरू की। इसके बाद लखनऊ पहुंचकर डॉक्टर ने अपना बयान दर्ज कराया और बताया कि, पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने उन्हें फ़ोन कॉल पर इलाज के लिए कहा था।

इसे भी पढ़ें: ममता के भतीजे के घर पहुंची सीबीआई, कोयला तस्करी मामले में थमाया समन