हाईकोर्ट की फटकार के बाद नीतीश सरकार ने 15 मई तक लगाया लॉकडाउन

86
bihar lockdown

बिहार। बिहार में कोविड-19 के कहर पर रोकथाम लगाने कोलेकर अब नीतीश सरकार सख्त हो गयी है। सरकार ने अब 15 मई तक लॉकडाउन लगाने का ऐलान कर दिया है। इस बात की जानकारी खुद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट कर दी। सीएम ने कहा कि आपदा प्रबंधन समूह को विस्तृत मार्ग निर्देशिका जारी करने का निर्देश दे दिया गया है।

इसे भी पढ़ें:-कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने की तैयारी में केंद्र सरकार, 21 दिनों का लग सकता है लॉकडाउन, सेना ने तैयार की रूपरेखा

गौरतलब है की बिहार ने तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले और इलाज में आ रही समस्याओं को लेकर पटना हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है। पटना हाईकोर्ट ने महाधिवक्ता से कहा कि राज्य के हालात पर सरकार से बात करें और मंगलवार यानी चार मई को बताएं कि बिहार में लॉकडाउन लगेगा या नहीं? हाईकोर्ट ने यह भी कहा था कि अगर सरकार की तरफ से आज यानी चार मई को कोई ठोस निर्णय नहीं आता है तो हाईकोर्ट कड़े फैसले ले सकता है। यह सवाल पटना हाईकोर्ट ने कोरोना मरीजों के उपचार के संबंध में दायर जनहित याचिका की सुनवाई करते किया था।

सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने कहा कि आदेश के बावजूद कोरोना संक्रमितों के इलाज को लेकर सुविधाएं नहीं बढ़ाई गईं। कोर्ट ने कहा राज्य के अस्पतालों में निर्बाध ऑक्सीजन सप्लाई की ठोस कार्ययोजना नहीं बनाई गयी है। वहीं केंद्रीय कोटा से रोजाना मिले 194 टन ऑक्सीजन की जगह मात्र 160 टन ऑक्सीजन का उठाव किया जा रहा है। राज्य में अभी तक एडवाइजरी कमेटी भी नहीं गठित की गयी है जो इस कोरोना विस्फोट से निपटे।

बता दें कि बिहार में भी कोरोना वायरस ने तबाही मचा रखी है। यहां भी हर दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या में जबर्दस्त इजाफा देखने को मिल रहा है, सोमवार को बिहार में कोविड-19 से 174 लोगों की मौत हो गयी। इनमें 42 की मौत पटना में हुई, जबकि 132 की मौत बिहार के अन्‍य जिलों में हुई। वहीं स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के आंकड़ों पर नजर डालें तो राज्‍य में इलाज के दौरान 82 लोगों की जान गयी।

इसे भी पढ़ें:-केंद्र सरकार की राज्यों को सलाह, इन इलाकों में लगाया जाए 14 दिनों का सख्त लॉकडाउन