सुप्रीम कोर्ट पहुंचे राजद्रोह में फंसे शशि थरूर, राजदीप सरदेसाई, लगाई गुहार

156

नई दिल्ली। 26 जनवरी को दिल्ली में हुए उपद्रव के बाद वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई और कांग्रेस सांसद शशि थरूर के खिलाफ हिंसा भड़काने को लेकर कई प्रदेशों में मामला दर्ज किया गया है। राजधानी में गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा को भड़काने में कांग्रेस नेता सहित कई पत्रकारों का नाम आ रहा है। आरोप है कि, इन्होने ही सबसे पहले सोशल मीडिया के माध्यम से खबर फैलाई थी कि, एक किसान की गोली मारकर पुलिस द्वारा उसकी हत्या कर दी है। अब खुद को मुश्किलों में घिरता देख राजदीप सरदेसाई और शशि थरूर ने उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस महिला विधायक के साथ मंच पर हुई छेड़छाड़, आरोपी को मारा थप्पड़

राजदीप सरदेसाई के आलावा वरिष्ठ पत्रकार परेशनाथ, अनन्तनाथ, मृणाल पांडे और जफर आगा के खिलाफ हिंसा भड़काने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। इसके बाद इन सभी पत्रकारों ने उच्चतम न्यायालय में अपने खिलाफ दर्ज मामलों को चुनौती दी है। गौरतलब है कि, नोएडा सेक्टर-20 थाना पुलिस के अनुसार, सुपरटेक केपटाउन निवासी अर्पित मिश्रा ने दिल्ली में 26 जनवरी को हुई हिंसा के दौरान कुछ लोगों ने गुमराह और उकसाने वाली खबरों के आलावा अपमानजनक खबर सोशल मीडिया पर शेयर की थी कि, ट्रैक्टर चालक किसान की पुलिस ने गोली मारकर हत्या कर दी है।

एक साजिश के तहत ही इन लोगों ने इस तरह की खबर सोशल मीडिया पर वायरल की, जिसका सिर्फ एक ही उद्देश्य था कि, प्रदर्शनकारियों को भड़काकर हिंसा फैलाई जाये। यही वजह रही कि, बाद में प्रदर्शनकारी लाल किला तक पहुंच गए। जहां उन्होंने पुलिस पर हमला किया और धार्मिक और दूसरे झंडे लगा दिए। एडीसीपी रणविजय सिंह का कहना है कि, अर्पित मिश्रा की शिकायत के आधार पर आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने 124 (A)120 B, 153A, 153B ,295A, 504, 506, और आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। फिलहाल आरोपियों के खिलाफ जांच की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: ममता सरकार के खिलाफ पीएम फूकेंगे चुनावी बिगुल, जुटेगी लाखों की भीड़