नकली करेंसी के साथ युवक गिरफ्तार, 1 लाख 97 हजार रुपए के नकली नोट बरामद

100

मेरठ। भारत में नोटबंदी के बाद नकली नोटों का कारोबार फिर से फैलने लगा है। मेरठ के थाना टीपीनगर पुलिस ने जाली भारतीय मुद्रा छापकर उसे बाजार में खपाने वाले एक युवक को गिरफ्तार किया है। उसके पास से पुलिस को 1,97,200 (एक लाख सत्तानवे हजार दौ सौ रुपए) जाली नोट व 27900 (सत्ताईस हजार नौ सौ रुपए) के अद्धर्निमित जाली नोट, नकली मुद्रा छापने का प्रिन्टर व अन्य सामग्री बरामद हुए हैं। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने चेकिंग के दौरान वेदव्यासपुरी क्षेत्र से सुनील कुमार पुत्र दशरथ निवासी आजमपुर हुसैनपुर थाना ककोड जनपद बुलन्दशहर को जाली नोटों के साथ गिरफ्तार किया गया है।

इसे भी पढ़ें: यूपी के इस गांव में रहस्यमयी बुखार से हुई 15 लोगों की मौत, स्वास्थ्य विभाग में मचा हड़कंप

गिरफ्तार किया गया यह शख्स मौजूदा समय में गौतमबुद्धनगर में एक किराए के मकान में रह रहा था। इसके पास से 1,97,200 (एक लाख सत्तानवे हजार दौ सौ रुपए) के जाली नोट (100-100 के 934 नोट, पांच सीरियल नंबरों में, 200-200 के 249 नोट, दो सीरियल नंबरों में, 500-500 के 108 नोट, पांच सीरियल नंबरों में, कुल -197200 रुपए व 27900 (सत्ताइस हजार नौ सौ रुपए) के अर्द्धनिर्मित जाली नोट के साथ पचास हजार रुपए असली बरामद हुए हैं।

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए सुनील कुमार की निशादेही पर उसके फ्लैट चौहानपुर थाना ईकोटैक तृत्तीय जनपद गौतमबुद्ध नगर से जाली नोट छापने का प्रिन्टर, ए4 साईज पेपर, कतरन, वाईटनर, पेन्सिल रबर, कलर सैलोटेप, शीशा, पैमाना आदि सामग्री बरामद हुआ है। जबकि मौके से उसका एक साथी श्रीकान्त उर्फ काली चरन भागने में सफल रहा। पूछताछ में सुनील कुमार ने बताया कि वह श्रीकान्त उर्फ कालीचरन के साथ मिलकर बीते चार महीने से अपने फ्लैट पर जाली भारतीय मुद्रा छाप रहा था और इसे बाजार में खपा भी रहा था। पुलिस आरोपी से अन्य जानकारी हासिल करने का प्रयास कर रही है।

इसे भी पढ़ें: बहराइच में मैजिक और ट्रक की भीषण टक्कर, 6 लोगों की मौत, 10 घायल