Sooraj Pancholi का जिया खान मामले में अब छलका दर्द, बोले- मैं विनती…

कोर्ट ऑर्डर पर बात करते हुए सूरज पंचोली (Sooraj Pancholi) ने एक इंटरव्यू में बोला कि, ‘पिछले 10 सालों से इन मामलों और झूठे आरोपों से जूझ रहा हूं, इन आरोपों ने मुझे बुरी तरह से परेशान और प्रभावित किया है’।

0
1126
Sooraj Pancholi

Sooraj Pancholi Statement: लम्बे समय से सूरज पंचोली (Sooraj Pancholi) जिया खान के केस में फंसे हैं। ये मामला बहुत समय से बॉम्बे हाईकोर्ट में चल रहा है। कुछ समय पहले ही जिया की मां राबिया खान ने हाईकोर्ट में अपील दाखिल की थी कि उनकी बेटी ने सुसाइड नहीं किया था, बल्कि इसके पीछे कोई और वजह है। इसके बाद से वो इस मामले को उन्होंने खींचा है। अब हाल ही में जिया खान (Zia Khan) इस केस पर सूरज पंचोली ने अपने दिल की बात जाहिर की है।

सूरज पंचोली ने का झलका दर्द

कोर्ट ऑर्डर पर बात करते हुए सूरज पंचोली (Sooraj Pancholi) ने एक इंटरव्यू में बोला कि, ‘पिछले 10 सालों से इन मामलों और झूठे आरोपों से जूझ रहा हूं, इन आरोपों ने मुझे बुरी तरह से परेशान और प्रभावित किया है’। इसके आगेSooraj Pancholi जिया खान एक्टर ने दुख जताते हुए कहा, ‘ये सिर्फ मैं ही जानता हूं कि मैं इन सभी सालों में क्या कर रहा हूं, मेरे मन में जिया औरSooraj Pancholi जिया खान उनकी फैमिली के प्रति बहुत सम्मान है, मैं विनती करता हूं कि उनके परिवार और मेरे बीच निष्पक्ष सुनवाई हो और जल्द ही ये मामला पूरी तरह से खत्म हो जाए’।

केस को री-ओपन की दी याचिका

बॉम्बे हाई कोर्ट में राबिया खान ने दोबारा जांच की याचिका दायर करने की अपील की थी कि उनकी बेटी के सुसाइड केस को स्पेशल एजेंसी को दे दिया । इसके अतिरिक्त उनका ये बोलना था कि जिया खान के सुसाइड केस केSooraj Pancholi जिया खान इन्वेस्टिगेशन में ‘फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन’ (FBI) को भी अपनी टीम में ळामिल कर लिया गया जाए। ज्ञात हो कि पुलिस की जांच में कमियां निकालते हुए राबिया खान ने हाई कोर्ट से अपनी बेटी के लिए इंसाफ की मांग की थी। इसकेSooraj Pancholi जिया खान बाद साल 2014 में इस मामले की जांच को सीबीआई को दे दिया गया था। फिलहाल, अब जिया खान की मां और उनके वकील ने सीबीआई की जांच में भी कमी निकाली और फिर केस को री-ओपन करने की याचिका दी थी।

Read More-Pregnancy Termination: अविवाहित महिलाओं के लिए SC ने लिया फैसला, मिल गया एबॉर्शन का अधिकार