सरकारी दस्तावेजों में मर चुके शख्स को जिन्दा करने में सफल हुए पंकज त्रिपाठी, इतने वर्षों तक किया संघर्ष

29
pankaj tripathi

नई दिल्ली। सरकारी तंत्र पर करारी चोट करने और वहां की खस्ता हालत पर चोट करने वाली अभिनेता पंकज त्रिपाठी ( Pankaj Tripathi) अभिनीत फिल्म ‘कागज’ डिजिटल स्ट्रीमिंग प्लेटफार्म जी -5 पर रिलीज हो चुकी है। इस फिल्म में पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) लीड रोल में हैं। सतीश कौशिक (Satish Kaushik) द्वारा निर्देशित यह फिल्म काफी रोमांचित और अचम्भित करने वाली है। इस फिल्म की कहानी तो काफी हट कर है ही, वहीं पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) की एक्टिंग ने फिल्म में जान डाल दी है। फिल्म ‘कागज’ का ट्रेलर तो पहले ही रिलीज हो चुका था, जिसे खूब पसंद किया था गया था और दर्शक तब से इस फिल्म का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें:-लीजेंडरी एक्टर पंकज त्रिपाठी बिहार सरकार के लिए करेंगे प्रचार-प्रसार का काम, बोले- मुझे गर्व है

सतीश कौशिक (Satish Kaushik) ने इस फिल्म के निर्देशन के साथ ही एक्टिंग भी की है। फिल्म में पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) और सतीश कौशिक के अलावा एम मोनल गज्जर, मीता वशिष्ठ, अमर उपाध्याय, नेहा चौहान, संदीपा धर, ब्रिजेंद्र काला जैसे कलाकारों ने भी में अहम भूमिका निभाई है। फिल्म ‘कागज’ की कहानी एक ऐसे व्यक्ति पर आधारित है, जो जिन्दा होते हुए भी कागजी दस्तावेजों में मृत घोषित हो चुका है और खुद को जिन्दा साबित करने के लिए उसे वर्षों कोर्ट कचेहरी के चक्कर लगाने पड़ते हैं। पूरी फिल्म इसी कहानी के इर्द गिर्द घूमती है। फिल्म में देश के सरकारी सिस्टम की हालात को खस्ता दिखाया गया है कि कैसे एक इंसान जिन्दा होते हुए भी मृत घोषित हो चुका है और खुद क जिन्दा साबित करने के लिए पूरे सरकारी सिस्टम से संघर्ष करता है। इस संघर्ष में वह अपने जैसे और भी तमाम लोगों को भी इस लड़ाई में शामिल करता है।

एक्टिंग ने बांधे रखा 

फिल्म की कहानी शुरू में तो थोड़ी हल्की लगती है लेकिन बाद में सीरियस होती चली जाती है। एक दर्शक के तौर पर आप भी फिल्म में रमते चले जाते हैं। हालांकि कहीं-कहीं पर फिल्म की कहानी थोड़ी स्लो भी होती है लेकिन पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) की बेहतरीन कलाकारी की वजह से यह बात आपको कम ही महसूस होगी।
फिल्म के लीड रोल में भरत लाल का किरदार निभाते हुए पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) उस किरदार में इतना घुस जाते हैं कि आप कुछ भूल जाते हैं कि यह कोई फिल्म चल रही है और कोई अभिनेता एक्टिंग कर रहा है। फिल्म में पंकज की पत्नी रुक्मिणी का रोल एम मोनल गज्जर और वकील साधुराम का रोल सतीश कौशिक (Satish Kaushik) ने निभाया है। दोनों ने अच्छी एक्टिंग की है। सतीश कौशिक (Satish Kaushik) द्वारा निर्देशित यह फिल्म ‘कागज’ मुख्य तौर पर लाल बिहारी मृतक नाम के एक व्यक्ति के जीवन पर आधारित है जिन्होंने 18 साल के लंबे संघर्ष के बाद खुद को जीवित साबित किया था

इसे भी पढ़ें:-मिर्जापुर-2 के बायकॉट को लेकर बोले अली फजल, सोशल मीडिया ट्रेंड पर निर्भर नहीं है कला