Brakeup को लेकर एक बार फिर दीपिका नहीं रोक पाई आसू, मां से बयां किया दर्द

0
587
brake up

फिल्मी दुनिया की फेमस सुपरस्टार दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) ने अपने बॉलीवुड करियर में बहुत सी जबरदस्त फिल्में दी है। उन्होंने जितने भी किरदार अभी तक निभाए है उसमें उनकी कड़ी मेहनत साफ दिखाई दी है। अभिनेत्री ने अपने जीवन के दौर के सभी से ओपन होकर बात की है। अक्सर लोगों से वह मेंटल हेल्थ और डिप्रेशन को लेकर अपने अनुभव लोगों के बीच शेयर करती रहती है। अब एक बार फिर ‘वॉयस चैट रूम’ सेशन के दौरान उन्होंने बताया कि कैसे जब वह डिप्रेशन के बुरे वक्त से गुजर रही थीं, उस समय उनकी मां ने उन्हें सहारा दिया।

काफी मुश्किल था वो दौर

आज अभिनेत्री दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) का नाम टॉप क्लास एक्ट्रेसस की लिस्ट में शामिल हैं। उनके पर्सनल लाइफ भी काफी चर्चे में है चर्चा का विषय है उनके और उनके पार्टनर के बीच का प्यार। दोनों अपनी शादीशुदा जिंदगी में काफी खुश है। हालांकि शुरू से दीपिका की लाइफ इतनी परफेक्ट नहीं थी। अभिनेत्री ने भी अपने जीवन में कई बुरे दौर का सामना किया है। एक दौर था जब उन्हें यह जिंदगी बिना काम की, बर्बाद नजर आ रही थी।

दर्द में मां ने दिया साथ

बता दे कि जब दीपिका एक बड़े दुख से गुजर रही थी तो उन्हें किसी और ने नहीं बल्कि उनकी मां ने संभाला था। उस दौर के बारे में बात करते हुए दीपिका ने कहा, ‘मेरी मां उज्जवला पादुकोण मेरे रोने के तरीका से समझ गई थी कि यह काम का स्ट्रेस या नॉर्मल बॉयफ्रेंड इश्यू और ब्रेकअप से से ज्यादा बड़ी मुसीबत में हैं।’

फरवरी 2014 में शुरू हुआ डिप्रेशन

दीपिका पादुकोण वैसे तो आए दिन मेंटल हेल्थ और डिप्रेशन को लेकर खुलकर बात करती रहती हैं। लेकिन इस बार जैसे उनका दर्द फिर छलक आया और वह इमोशनल हो गईं. ‘वॉयस चैट रूम’ सेशन में बात करते हुए उन्होंने यह भी जानकारी दी कि मेरा डिप्रेशन फरवरी 2014 में शुरू हुआ था। मेरी लाइफ का वो ऐसा समय था जिसमें मैं अंदर से पूरी तरह टूट चुकी थी। मैं शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से कमजोर हो गई थी। ऐसा लग रहा था कि अब लाइफ में कुछ नहीं बचा।

रोता देख मां ने समझी हालत

दीपिका पादुकोण ने इसके आगे बताया कि ऐसा मेरे साथ कई दिनों, हफ्तों और महीनों से चल रहा था। इसके बीच मेरी फैमिली मुझसे मिलने मुंबई आई थी। जब परिवार के सभी लोग चले गए तो मैं अपना सामान पैक करते हुए फिर से रोने लगी। तभी मेरी मां की नजर मुझ पर पड़ी और वो देखते ही समझ गई। उन्हें यह एहसास हो चुका था कि जरूर कोई बात तो है। इसलिए मां ने मुझसे पूछा कि क्या हुआ? लेकिन मैं नहीं बता सकी। लेकिन मेरी मां का अनुभव और प्रिजेंस ऑफ़ माइंड ही था, जिसकी वजह से मैं इस प्रॉब्लम से निकल पाई और आज आप सबके बीच इनती खुश हूं।

इसे भी पढ़ें-‘मैं तुम्हारें लिए कपड़े उतार सकती हूं’ मैसेज के साथ राज कुंद्रा ने पूनम पांडे का नंबर किया लीक