ऋतिक के लिए आसान नहीं थी फिल्मों में एंट्री, काम सीखने के लिए करना पड़ा था यह मुश्किल काम

47
ritik roshan

फिल्म ‘ कहो न प्यार है’ से बॉलीवुड (Bollywood) में डेब्यू करने वाले ऋतिक रोशन (Hrithik Roshal) आज भले ही एक सुपरस्टार के तौर पर जाने जाते हैं लेकिन फिल्मों में आना और बॉलीवुड में जगह बनाना उनके लिए भी आसान नहीं था। गुड लुक्स, एक्शन, डांस और बेहतरीन अभिनय के जरिये दर्शकों के दिलों पर राज करने वाले ऋतिक रोशन (Hrithik Roshal) की आज भले ही दुनिया दीवानी हो, लेकिन इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिए उन्हें भी कड़ी मेहनत करनी पड़ी थी।  साल 2000 में अपने पिता राकेश रोशन की फिल्म ‘कहो न प्यार है’ से करियर की शुरुआत करने वाले ऋतिक रोशन (Hrithik Roshal) इस फिल्म के जरिये रातोंरात स्टार बन गए थे। अक्सर लोगों को लगता है यह फिल्म पिता राकेश रोशन ने उन्हें बिना किसी मेहनत के दी दी होगी, लेकिन ऐसा नहीं है।

इसे भी पढ़ें:-ऋतिक रोशन और कंगना का ई-मेल मामला पहुंचा क्राइम ब्रांच, जांच तेज

ऋतिक रोशन (Hrithik Roshal) को काम सिखाने के लिए उनके पिता राकेश रोशन उन्हें अक्सर अपने सेट पर लाते थे और उनसे काम करवाते थे। कहने को राकेश रोशन ने उन्हें असिस्टेंट डायरेक्टर (Assistant Director) के तौर पर रखा था, लेकिन वह सेट पर झाड़ू लगाने के साथ ही स्टार्स को चाय देना आदि काम करते थे। यह सारे काम राकेश रोशन उनसे सिर्फ इसलिए करवाते थे ताकि ऋतिक सब कुछ सीख जाए। ऋतिक रोशन (Hrithik Roshal) ने पिता राकेश रोशन द्वारा निर्देशित फिल्म ‘कारण अर्जुन’ में बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर (Assistant Director) काम किया।

खुद को ढाल लेते हैं किसी भी परिस्थिति में 

राकेश रोशन ने एक इंटरव्यू में ऋतिक के बारे में बात करते हुए बताया कि ‘ये वो एक्सपीरियंस था जो मैंने उसे सिखाने के लिए और एहसास दिलाने के लिए दिया कि मैं अपनी जिंदगी में इतना आगे कैसे आया। मैं उसे सिखाना चाहता था कि सेट पर कैमरे के पीछे का माहौल क्या होता है, चीजें आराम से नहीं मिलती तो कैसा लगता है।’ राकेश रोशन की यही सीख अब ऋतिक रोशन (Hrithik Roshal) के काम आती है और वह खुद को किसी भी परिस्थिति में ढाल लेते हैं।

इसे भी पढ़ें:-ऋतिक रोशन: बॉलीवुड में एंट्री करते ही मचा दिया था धमाल, शादी के इतने साल बाद लिया सबसे महंगा तलाक