सुशांत के इस प्रोजेक्ट को पूरा करेंगे उनके दोस्त संजय, कहा देना चाहते हैं ट्रिब्यूट

48
sanjay-sushant

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के निधन को सात महीने से ज्यादा समय बीत चुका है, लेकिन उनके दोस्त और उनके चाहने वाले उनकी यादों को अपने जहन से नहीं निकाल पा रहे हैं। सुशांत सिंह (Sushant Singh) को लेकर जब तब उनके दोस्त और चाहने वाले सोशल मीडिया पर अपनी फीलिंग शेयर करते रहते हैं। इसी बीच अब सुशान्त सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के दोस्त और फिल्म डायरेक्टर संजय पूरन सिंह चौहान (Sanjay Puran Singh Chauhan) ने सुशान्त के ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करने का ऐलान किया है। उन्होंने बताया कि सुशांत सिंह (Sushant Singh) अंतरिक्ष पर फिल्म बनाना चाहते थे, जिस फिल्म में वह अंतरिक्ष यात्री की भूमिका निभाने वाले थे।

इसे भी पढ़ें:-सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच में खर्च हुए 5 करोड़, नतीजा कुछ भी नहीं

उन्होंने कहा अब वह सुशांत सिंह (Sushant Singh) के ड्रीम प्रोजेक्ट फिल्म ‘चंदा मामा दूर के’ को बना कर उन्हें ट्रिब्यूट देना चाहते हैं। संजय पूरन सिंह चौहान (Sanjay Puran Singh Chauhan)ने यह बातें एक इंटरव्यू के दौरान कही। उन्होंने बताया कि अंतरिक्ष पर आधारित फिल्म की तैयारी के लिए वह साल २०१७ में नासा भी गये थे, लेकिन बजट के अभाव में फिल्म बना नहीं पाई थी। इंटरव्यू में उन्होंने कहा मेरे लिए इस फिल्म में सबसे मुश्किल काम होगा सुशांत सिंह के रिप्लेसमेंट को तलाशना। संजय मानते हैं कि सुशांत सिंह (Sushant Singh) की जगह किसी और को फिल्म में कास्ट करना उनके लिए आसान नहीं है।

मुश्किल होगा सुशांत के रिप्लेसमेंट को ढूढना 

वह कहते हैं कि हालांकि अभी फिल्म की स्क्रिप्ट का ही काम पूरा नहीं हुआ है,लेकिन वह इसे जल्द पूरा करा कर फिल्म पर काम शुरू कर देंगे। उन्होंने बताया कि यह फिल्म बेव सीरिज नहीं होगी, बल्कि यह बड़े परदे पर रिलीज की जाएगी। गौरतलब है कि 14 जून 2020 को सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) मुंबई के बांद्रा स्थित फ्लैट में मृत पाए गए थे। उनकी मौत मामले की जांच देश की तीन बड़ी एजेंसियां सीबीआई, ईडी, एनसीबी कर रही हैं,लेकिन अभी तक कुछ भी खुलकर सामने नहीं आया है और उनकी मौत एक मिस्ट्री बनकर रह गयी है। फिलहाल इस केस में सीबीआई की जांच जारी है।

इसे भी पढ़ें:-सुशांत सिंह मामले में एम्स की फॉरेंसिक टीम ने किया खुलासा, नहीं हुई थी हत्या