Thursday, January 20, 2022

लहूलुहान होते हुए भी aishwary rai ने की पूरी की थी गाने की शूटिंग, किसी को नहीं लगने दी थी भनक

- Advertisement -
- Advertisement -

बॉलीवुड में अभिनेता शाहरुख, ऐश्वर्या और माधुरी की फिल्म ‘देवदास’ बहुत ही बेहतरीन फिल्मों में से एक कही जाती है। फिल्म एक ओर जहां क्रिटिक्स की ओर से बहुत तारीफें मिली, तो वहीं इस फिल्म ने कई बड़े अवॉर्ड्स भी अपने नाम पर कर लिये थे। फिल्म में ऐश्वर्या और माधुरी दीक्षित पर एक गाना था ‘डोला रे डोला’ जो कि बहुत पॉपुलर हुआ था। लेकिन इस बात से बहुत कम लोग ही वाकिफ होंगे कि जब ऐश इस गाने की शूटिंग कर रही थी तब वो जख्मी हो गई थीं और उनके कानों से खून बहने लगा था। पर इसके बाद भी ऐश्वर्या राय शूटिंग करती रही और किसी को भी इस बात की भनक नहीं लगने दी।

पारो का रोल किया अदा

असल में, ऐश्वर्या राय ने देवदास फिल्म में पारो के रोल को अदा किया था। फिल्म में माधुरी दीक्षित के साथ में गाना ‘डोला रे डोला’ में ऐश्वर्या राय डांस करते हुए जख्मी हो गई थीं और भारी झुमकों के कारण उनके कानों से खून जोरो से बहने लगा था।

पर वहां के कर्मचारियों को इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिली कि बड़े झुमके की वजह से ऐश्वर्या के कान बुरी तरीके से जख्मी हो गए थे और उनके कानों से तेजी से खून बह रहा था। फिलहाल, उन्होंने शूटिंग खत्म होने तक डांस किया दर्द के बाद भी वो नाचना बंद नहीं करी।

संजय लीला भंसाली की ये फिल्म सुपरहिट थी। इसके लिए आउटफिट से लेकर कोरियोग्राफी और सेट की सजावट तक, सबकुछ बहुत ही महंगा था। फिल्म के गाने ‘काहे छेड़े मोहे’ के लिए माधुरी दीक्षित के आउटफिट का केवल वजन ही 30 किलो था। इसी के साथ उनके लिए नाचना सरल नहीं था।

इस गाने की शूटिंग में भी वो माधुरी दीक्षित गर्भवती थीं। जिसके बाद बिना किसी हिचक के ही शूटिंग को पूरी किया। ‘काहे छेड़े मोहे’ गाने में उन्होंने डिजाइनर अबू जानी और संदीप खोसला द्वारा डिजाइन किया हुआ घाघरा पहना था, इसके रेट 15 लाख रुपए से भी अधिक है।

साल 2002 में आई फिल्म ‘देवदास’ का बजट करीबन 50 करोड़ था। इस फिल्म के 6 सेट बनाने के लिए ही 20 करोड़ रुपए करीब खर्च हुए थे। रिपोर्ट के अनुसार सेट पर 42 जनरेटर और 700 लाइटमैन की सहायता से 30 लाख वॉट बिजली सप्लाई की गयी थी।

चंद्रमुखी (माधुरी दीक्षित) जिस कोठे में रहती थी, उसको बनाने के लिये 12 करोड़ रुपए खर्चे गये थे। एक रिपोर्ट के अनुसार, “हवेली में पारो के कमरे को बनाने में 1.22 लाख टुकड़ों के ग्लास का इस्तेमाल किया गया था, जिसकी कीमत 3 करोड़ रुपए थी।

इसे भी पढ़े-संजय निषाद ने बढ़ाई BJP की टेंशन, कहा – अपनी मांगों को लेकर हर जिले में करेंगे धरना-प्रदर्शन

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -