घाटी में ढेर हुआ आतंक का ‘डॉक्टर’, तीन बीजेपी नेताओं को उतारा था मौत के घाट

97

नई दिल्ली। भारतीय सुरक्षाबलों को घाटी में बड़ी सफलता मिली है, बीते दिनों में कुलगाम में भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के तीन कार्यकर्ताओं की आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस घटना के मास्टरमाइंड मोस्ट वांटेड आतंकी डॉ. सैफुल्लाह मीर को सुरक्षा बलों मुठभेड़ में मार गिराया है। डॉ. सैफुल्लाह मीर हिजबुल मुजाहिदीन सरगना था, जो टॉप टेन आतंकियों की सूची में शामिल था। इस वर्ष मई महीने में जब रियाज नायकू को भारतीय सुरक्षाबलों ने मार गिराया था तो उसके बाद ही डॉ. सैफुल्लाह मीर ने हिजबुल मुजाहिदीन की कमान अपने हाथों में ली थी। श्रीनगर के बाहरी क्षेत्र रंगरेथ के पुराने एयरफील्ड के आस पास आतंकी मूवमेंट की सूचना भारतीय सुरक्षाबलों मिली। इसके बाद सेना, सीआरपीएफ और पुलिस ने इलाके को चारों तरफ से घेर लिया और सर्च ऑपरेशन शुरू किया।

इसे भी पढ़ें: यूपी के इस गांव में रहस्यमयी बुखार से हुई 15 लोगों की मौत, स्वास्थ्य विभाग में मचा हड़कंप

सर्च ऑपरेशन के दौरान एक मकान में छुपे आतंकी को लगा कि अब उनका बचकर निकलना मुश्किल है तो उन्होंने सुरक्षा बलों फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद सुरक्षा बलों ने जब जवाबी कार्रवाई करते हुए फायरिंग शुरू की तो उसमे एक आतंकी मारा गया। इसकी जब शिनाख्त की गयी तो आतंकी की पहचान हिजबुल के ऑपरेशनल कमांडर डॉ. सैफुल्लाह मीर उर्फ गाजी हैदर उर्फ डाक्टर साहब के रूप में हुई। सैफुल्लाह के एनकाउंटर के बाद डीजीपी दिलबाग सिंह ने मीडिया को बताया कि, आतंकी श्रीनगर में कुछ आम नागरिकों की हत्या के मकसद से आया हुआ था।

इससे पहले वो तीन पुलिस वालों की हत्या कर चुका था। यह आतंकी अनुच्छेद 370 हटने के बाद घाटी में मारे गए दो ट्रक ड्राइवरों की हत्या में भी शामिल था। इसने ही बीते दिनों कुलगाम में एक सरपंच पर हमला भी किया था। सैफुल्लाह ने बीते दिनों तीन बीजेपी सहित कुल 9 लोगों की हत्या की थी। जम्मू कश्मीर में इस वर्ष अब तक भारतीय सुरक्षाबलों ने 200 आतंकियों को मार गिराया है। इनमे से 190 में कश्मीर में और बाकि जम्मू के आस पास मारे गए हैं।

इसे भी पढ़ें: अपहरणकर्ताओं की मददगार बनी कोर्ट, युवती का जबरन कराया धर्म परिवर्तन