धनतेरस के दिन करें ये 5 उपाय, संकटों से मिलेगी मुक्ति, हो जाएंगे मालामाल

1244

हिन्दू धर्म के तहत कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। धनतेरस पांच दिन चलने वाले दीपावली पर्व के उत्सव का पहला दिन होता है। धनतेरस के दिन से ही तीन दिन तक चलने वाला गोत्रिरात्र व्रत भी शुरू हो जाता है। ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के दिन कुछ ज्योतिषीय उपाय हैं, जिन्हें अपना कर आप अपने घर के सभी संकट से मुक्ति पा सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे 5 उपायों के बारे में जिन्हें अपनाने से घर में धन और समृद्धि आती हैं।

देवों की पूजा

हिंदू धर्म के अनुसार धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि, मां लक्ष्मी, कुबेर, यम और गणेश भगवान की पूजा होती है। धनतेरस के दिन ग्रामीण क्षेत्र में किसान अपने मवेशियों को अच्छे से सजाकर उनकी पूजा करते हैं, क्योंकि ग्रामीणों के लिए पशु धन काफी महत्व रखता है। भारत के अधिकत्तर हिस्सों में गायों को मां की संज्ञा दी गई है। पूर्वी क्षेत्रों गायों को माता लक्ष्मी का अवतार मानते हैं इसलिए वहां के लोग गाय का विशेष सम्मान करते हैं

दीपदान

ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के दिन यमराज के निमित्त जिस घर में दीपदान किया जाता है, वहां किसी भी सदस्य की अकाल मृत्यु नहीं होती। इसके लिए धनतेरस की शाम को घर के मुख्य द्वार पर 13 और अंदर भी 13 दीप जलाने होते हैं। लेकिन यम के नाम का दीपक घर के सभी सदस्यों की मौजूदगी में और भोजन करने के बाद सोते समय जलाया जाता है। इस दीप को जलाने के लिए पुराने दीपक सरसों का तेल डालकर जलाया जाता है। इस दीपक घर से बाहर दक्षिण की दक्षिण की तरफ मुख करके नाली या कूड़े के ढेर के पास रख दिया जाता है। इसके बाद जल चढ़ा कर दीपदान करते समय इस मंत्र को पढ़ा जाता है-

मृत्युना पाशहस्तेन कालेन भार्यया सह।

त्रयोदश्यां दीपदानात्सूर्यज: प्रीतयामिति।।

खरीदें धनिया

धन तेरस के दिन सोना खरीदने की परंपरा रही है। ऐसे में आप अगर सोना खरीदने में सक्षम नहीं हैं तो पीतल का बर्तन खरीदें। यह दोनों वस्तुएं पहुंच से बाहर हैं तो पीली कौड़ियां और धनिया जरूर खरीद लें। धनिया खरीदना काफी शुभ माना गया है। किसान धनतेरस के दिन बोने के लिए धनिया खरीद लेते हैं जबकि शहरी क्षेत्रों में पूजा के लिए धनिया खरीदा जाता है। ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से भी धन का नुकसान से बचा जा सकता है।

दान करें

शास्त्रों के हिसाब से सभी को कुछ न कुछ दान करना चाहिए। धनतेरस के दिन सफेद वस्तुओं का दान करना चाहिए। यदि आप चीनी, बताशा, खीर, चावल, सफेद कपड़ा आदि दान करते हैं, तो आपके यहां धन की कमी नहीं हो सकती है। ऐसा करने से जमा पूंजी बढ़ने के साथ ही अन्य विघ्न—बांधाएं दूर होंगी। धनतेरस के दिन यदि कोई भिखारी, जमादार या गरीब आपके दरवाजे पर आए, तो उसे खाली हाथ न जानें दें। कुछ न कुछ उसे जरूर दें। माना जाता है इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और आपको समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं। इतना ही नहीं इस दिन अन्न दान, वस्त्र दान, लोह दान और मंदिर में झाड़ू दान करने के भी चलन है।

कुछ नया करें

धनतेरस के दिन कुछ न कुछ नया करने की कोशिश करनी चाहिए। अपने बही खातों का लेखा—जोखा भी शुरू कर सकते है। नए कार्यों की भी शुरुआत कर सकते हैं। इस दिन नई झाड़ू खरीदकर उसकी पूजा की जाती है। घर में नई झाड़ू लाने के साथ ही आप किसी मंदिर में या सफाई करने वाले को भी झाड़ू खरीदकर दान कर सकते हैं। इससे माता लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहेगी।