वाट्सएप को लगा बड़ा झटका, 28 प्रतिशत यूजर छोड़ रहे साथ

34

नई दिल्ली। वाट्सएप की नई प्रिवेसी पॉलिसी ने उपभोक्तओं को असमंजस की स्थिति में डाल दिया है। साइबर मीडिया के एक सर्वे के मुताबिक 28 प्रतिशत यूजर अब वाट्सएप उपभोक्ता अब इस्तेमाल बंद करने की सोच रहे हैं। जबकि 79 प्रतिशत यूजर ऐसे हैं जो अभी भी यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि उन्हें आगे वाट्सएप को जारी रखना है या फिर बंद कर देना चाहिए। बताते चलें कि वाट्सएप अपनी नई प्रिवेसी पॉलिसी को 8 फरवरी, 2021 से लागू करने वाला था, लेकिन विरोध के चलते इसे कुछ महीनों के लिए टाल दिया है। उपभोक्ताओं से मिले नकारात्मक सुझाव के चलते कंपनी ने इसे मई, 2021 तक के लिए स्थगित कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: चांदी खरीदने वालों के लिए है ये बुरी खबर, जानें कैसा है सोने का हाल,  फटाफट जानेें आज के दाम 

कंपनी चाहती है कि इस समयावधि में उपभोक्ता वॉट्सएप के नई प्रिवेसी पॉलिसी को ठीक से पढ़ और समझ लें। राहत की बात यह रही कि नई पॉलिसी को लागू करने की तारीख को आगे बढ़ाने का फैसला कंपनी के हक में रहा। माना जा रहा है कि अगर पॉलिसी को लागू करने की तारीख आगे न बढ़ाई गई होती तो बड़ी संख्या में यूजर्स वाट्सएप का साथ छोड़ सकते थे। वाट्सएप की नई पॉलिसी को लेकर उपभोक्ताओं में कई तरह की भ्रांतियां पैदा हो गई है। 49 प्रतिशत यूजर्स इससे काफी खफा हैं। जबकि 45 प्रतिशत उपभोक्ता ऐसे हैं जो वॉट्सएप पर कभी भी भरोसा न करने की बात कर रहे हैं। वहीं 35 प्रतिशत यूजर्स इसे भरोसा तोड़ने वाला बताया है।

साइबर मीडिया के सर्वे में कहा गया है कि वाट्एप और फेसबुक मैसेंजर के ज्यादातर उपभोक्ता थर्ड पार्टी सर्वर पर एकत्रित की जा रही चैट्स को लेकर चिंतित हैं। रिसर्च फर्म के मुताबिक वाट्एप और फेसबुक मैसेंजर के 50 प्रतिशत से अधिक उपभोक्ताओं को लगभग रोजाना स्पैम मैसेज मिलते हैं। सवें की रिपोर्ट में इस बात का जिक्र किया गया है कि इसमें हिस्सा लेने वाले 50 प्रतिशत उपभोक्ता ऐसे थे, जिन्हें अनजान नंबर से संदिग्ध मैसेज मिले थे, जिनमें फिशिंग अटैक और वायरस वाले लिंक जुड़े थे।

इसे भी पढ़ें: यूपी में टॉप-10 अपराधियों को मिली बड़ी राहत, हाई कोर्ट ने डीजीपी को दिया यह आदेश