अंबानी परिवार पर लगा करोड़ों का जुर्माना, नियमों की अनदेखी करना पड़ा महंगा

487

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी उनके भाई अनिल अंबानी सहित अन्य लोगों पर मार्केट रेग्युलेटर सेबी ने 25 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया है। ये मामला करीब बीस वर्ष पुराना है, जिसमे सेबी ने अंबानी परिवार पर जुर्माना लगाया है। वर्ष 2000 में रिलायंस इंडस्ट्रीज से सम्बंधित मामले में अधिग्रहण नियमों का अनुपालन न करने पर 25 करोड़ का भारी जुर्माना लगाया है।

इसे भी पढ़ें:- यूपी पंचायत चुनाव: समर्थन को लेकर भिड़े प्रधान प्रत्याशियों के समर्थक, एक की हत्या

अंबानी परिवार में कोकिला बेन अंबानी, मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी, लड़की ईशा अंबानी, अनिल अंबानी के बेटे जय अनमोल अंबानी, नीता अंबानी, नीता अंबानी के नाम शामिल हैं। सेबी ने अपने सम्बंधित मामले में अंबानी परिवार को वर्ष 2011 में नोटिस जारी किया था। अपने आर्डर में सेबी ने कहा था कि वर्ष 2000 में टेक ओवर के नियमों का पालन रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा नहीं किया है, जिसकी वजह से ही ये जुर्माना लगाया गया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज का उस समय बंटवारा नहीं हुआ था।

यही वजह है कि अनिल और टीना अंबानी पर भी जुर्माना लगाया गया है। गौरतलब है कि मुकेश और अनिल अंबानी के बीच संपत्ति का बंटवारा वर्ष 2005 में हुआ था। रिलायंस के संस्थापक धीरूभाई अंबानी की मौत उससे पहले हो चुकी थी। सेबी का कहना है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमोटर्स और संबंधित दूसरे लोगों ने वर्ष 2000 में पांच प्रतिशत कंपनी की ज्यादा हिस्सेदारी खरीदी थी। इस बारे में इन लोगों ने ठीक से जानकारी नहीं दी थी।

नियम के अनुसार, अगर प्रमोटर्स कंपनी में एक वित्त वर्ष में पांच प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी बढ़ाता है तो उसे माइनॉरिटी शेयर धारकों के लिए ओपन ऑफर लाना होता है, जो रिलायंस द्वारा नहीं लाया गया था।अगर रिकॉर्ड की बात करें तो 6.83 प्रतिशत शेयर रिलायंस के प्रमोटर्स ने एक साथ लिए थे, जिसका खुलासा 7 जनवरी 2020 में हुआ था। सेबी का कहना है कि ये जुर्माना सभी लोग मिलकर भरें या फिर अलग-अलग भरें।

इसे भी पढ़ें:- यूपी पंचायत चुनाव: समर्थन को लेकर भिड़े प्रधान प्रत्याशियों के समर्थक, एक की हत्या