सोने की कीमत में भारी गिरावट, 8 महीने के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा गोल्ड

510
gold

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण का ग्राफ जिस रफ़्तार से नीचे आ रहा है, उस ही रफ़्तार से गोल्ड प्राइस भी गोता लगा रहा है। भारत में सोने के भाव में लगातार पांचवे दिन भी गिरावट दर्ज की गई है, जिसके बाद सोने की कीमत पिछले 8 माह में अपने सबसे निचले स्टार पर आ गई है। MCX पर अप्रैल सोना वायदा .27 प्रतिशत कम होकर 46,772 रुपए प्रति दस ग्राम रहा है। जो पिछले वर्ष जून के सबसे निचले स्तर के गरीब है। चांदी में जरूर बढ़त देखने को मिल रही है। वायदा में चांदी 69,535 रुपए प्रति किलोग्राम हो गई।

इसे भी पढ़ें: पूछताछ में दिशा रवि के साथियों का खुलासा, शामिल हैं इतने नामी लोग

भारत में बजट आने के बाद लगातार सोने के दाम में गिरावट देखने को मिल रही है। बजट में आयात शुल्क में कटौती की गई है, जिसके बाद गोल्ड प्राइस में गिरावट का दौर जारी है। करोनकाल में वर्ष 2020 के अगस्त माह में सोना अपने उच्चतम रिकॉर्ड स्तर 56,200 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया था। उस समय माना जा रहा था कि, सोना 60 से 70 हज़ार रुपए तक जा सकता है।

गोल्ड प्राइस कम होने की वजह अंतरराष्ट्रीय बाजार में डॉलर का लगातार मजबूत होना है। हाजिर सोना के दाम .2 प्रतिशत गिरकर 1,791.36 डॉलर प्रति औंस रहा है। चांदी में भी 0.1 प्रतिशत की कमी देखी गई है, जिसके बाद वो 27.20 डॉलर पर आ गई। प्लैटिनम में 0.2 प्रतिशत की गिरावट हुई है, जिसके बाद उसका भाव 1,258.56 डॉलर आ गया है। वहीं मौजूदा वर्ष में प्लेटिनम में 18 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

बजट 2021-22 में सरकार द्वारा सोने और चांदी पर आयात शुल्क में कटौती का ऐलान किया है, जिसके बाद लगातार घरेलु बाजार में सोने के भाव में गिरावट हो रही है। आभूषणों का निर्यात बढ़ चुका है। वर्ष 2019 जुलाई में आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ा दिया गया था। वर्तमान समय में सोने और चांदी पर 12.5 प्रतिशत सीमा शुल्क लगाया जाता है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी सफलता, लाल किले पर हुए उपद्रव का एक और आरोपी गिरफ्तार