कोरोना कवच पॉलिसी की बढ़ी डिमांड, प्रीमियम की राशि बेहद कम, जानें स्कीम के बारे में

51

नई दिल्ली। कोरोना का खतरा दिन पर दिन बढ़ाता ही जा रहा है इस बीच कोरोना कवच स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी बाजार में आई है जिसे बेहद ही कम वक़्त में काफी लोगों ने लिया है। कोरोना के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य बीमा कंपनियों ने कोरोना से इलाज के लिए बीमा पॉलिसी 10 जुलाई से शुरू की है। जिसका उद्देश्य लोग इस महामारी के इलाज के लिए मुनासिब दर पर एक स्वास्थ्य बीमा संरक्षण ले सकें। कोरोना स्वास्थ्य बीमा को लेकर इफको टोक्यो जनरल इंश्योरेंस के कार्यकारी उपाध्यक्ष सुब्रत मंडल का कहना है कि, कोरोना संक्रमण को लेकर कंपनी ने यह उत्पाद एक पहले ही बाजार में उतारा है जिसे लेकर लोग काफी उत्साहित हैं। इस कोरोना कवच बीमा में कोई भी व्यक्ति खुद के लिए या अपने परिवार के किसी सदस्य के लिए और 25 वर्ष से कम आश्रित बच्चों के लिए ले सकता है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के तर्ज पर कोरोना संक्रमण से निपटेगी योगी सरकार, जारी किया प्रोटोकॉल

दिल्ली एनसीआर, महाराष्ट्र और कर्नाटक के लोगों ने इस पॉलिसी को लेने में ज्यादा रूचि दिखाई है। इसका प्रीमियम भी काफी कम है जिसकी वजह से 447 में लोग इस पॉलिसी को लेने में नहीं झिझक रहे हैं। यह पॉलिसी बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण के निर्देशन पर उतारी गई है। जिसमे 50 हज़ार से 5 लाख तक का कवर का प्रीमियम 447 रुपए से शुरू हो रहा है। जिसकी अवधि 3.5 महीने से 9.5 महीने तक होगी। कोरोना संक्रमित व्यक्ति के घर पर हुए इलाज में हुए खर्च का भी क्लेम भी मिलेगा।

एचडीएफसी एर्गो की पॉलिसी सरकारी केंद्रों पर जांच में पाए गए संक्रमित व्यक्ति के अस्पताल का खर्च पॉलिसी में शामिल होगा। इसमें संक्रमण वजह से दूसरी बीमारियों और एंबुलेंस का खर्च भी पॉलिसी में शामिल होगा। जिसमें 14 दिन तक घर पर पूरे ट्रीटमेंट की सुविधा होगी। अलग अलग बीमा कंपनिया अलग अलग पॉलिसी लाई है जिन्हे इस वक़्त समय से लेना ही अक्लमंदी कहलाएगी। क्योंकि वायरस का प्रकोप जिस तरफ से बढ़ रहा है। उस लिहाज से एक बीमा पॉलिसी अपने और अपनों के लिए होनी बेहद जरुरी है।

इसे भी पढ़ें: स्वास्थ्य मंत्री ने दी गुड न्यूज, अब जल्द खत्म हो जाएगा कोरोना